पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बड़ी विडंबना:पालिका ने भेजी गलत जानकारी,15 वें वित्त के कार्य अस्वीकृत

जांजगीर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • लैप्स हो गए नगर विकास के मिलने वाले साढ़े तीन करोड़ रुपए, नाली का निर्माण नहीं होने से मोहल्लों में भर रहा पानी

नगर विकास के लिए मिलने वाले साढ़े 3 करोड़ रुपए की राशि अब नगर पालिका को नहीं मिलेगी। तय समय पर विकास कार्यों की प्लानिंग व परिषद की स्वीकृति न होने के कारण नगरीय प्रशासन ने राशि लैप्स कर दी है। इसके पीछे विपक्ष के नेता नगर पालिका के जिम्मेदार अफसरों और शहर सरकार द्वारा परिषद की बैठक में अनावश्यक देरी को कारण बता रही है। वहीं अध्यक्ष इंजीनियरों द्वारा गलत जानकारी भेजने के कारण लैप्स होने की बात कह रहे हैं।

नगर विकास के लिए वित्त वर्ष में होने वाले कार्यों के लिए भारी भरकम राशि दी जाती है। इसके लिए नगरीय प्रसाशन विभाग को विकास कार्यों के लिए परिषद की स्वीकृति के साथ पूरी प्लानिंग भेजी जाती है। जांजगीर- नैला नगर पालिका से समय पर जानकारी नहीं भेजने के कारण यह राशि राशि लैप्स हो गई। नगरीय प्रशासन ने इस वित्तीय वर्ष के लिए नगर पालिका से 15 वें के अंतर्गत विकास कार्यों की प्लानिंग और परिषद की स्वीकृति मंगाई थी। लेकिन नगर पालिका के इंजीनियरों ने जरूरी कार्यों को लेकर कोई प्लानिंग नहीं भेजी।

लापरवाही का खामियाजा पब्लिक को भुगतना पड़ेगा
25 वार्डों में ढेरों नाली, सड़क के कार्य लंबित है। इसके अतिरिक्त बारिश के दौरान जल भराव के संकट से लोगों को बाहर निकालने के लिए भी ड्रेनेज सिस्टम पुख्ता किए जाने थे। बरसात में खराब हुए सड़कों को भी दुरूस्त किया जाता था, पर पालिका के पास पर्याप्त फंड नहीं होने से काम नहीं हो सकेंगे। पालिका की इस लापरवाही का खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ेगा।

पब्लिक को करना होगा पूरा एक साल का इंतजार
वार्ड वासियों को बेहतर ड्रेनेज, सीसी सड़क समेत विभिन्न कार्यों के लिए अब एक साल इंतजार करना होगा। वार्डो में पालिका सिर्फ 14 वें वित्त के पूर्व में स्वीकृत कार्य ही होंगे। इसके अतिरिक्त अन्य मदों के कार्य किए जाएंगे। 15 वें वित्त में जिन कार्यों को शामिल किया जाना था उनके लिए नगर पालिका और पब्लिक को पूरे एक साल इंतजार करना होगा।

नगर सरकार तय नहीं कर पा रही काम: उपाध्यक्ष
सामान्य सभा के दौरान प्रभारी सीएमओ से जानकारी मिली की 15 वें वित्त में नगर विकास के लिए मिलने वाली साढ़े तीन करोड़ की राशि लैप्स हो गई है। यह सब नगर सरकार और अफसरों की लापरवाही के कारण है,पालिका यह तय नहीं कर सकी है कि कौन से कार्य नगर में कराया जाना जरूरी है।’’
-आशुतोष गोस्वामी, उपाध्यक्ष नगर पालिका

जानकारी गलत भेजी है, इसलिए राशि लैप्स
पैसा लैप्स नहीं हुआ है, हमारे इंजीनियरों ने कुछ जानकारी गलत भेज दी है, इसलिए स्वीकृति रोक दी गई है। सुधार कर इंजीनियर जानकारी दोबारा भेजेंगे तो 15 वें वित्त की राशि की स्वीकृति मिलेगी। इसमें प्रस्ताव और प्राक्कलन की फिलहाल जरूरत नहीं है, जब स्वीकृति आएगी तो प्रस्ताव भजेंगे।’’
-भगवान दास गढ़ेवाल, अध्यक्ष नपा

खबरें और भी हैं...