9 महीने बाद भी RT-PCR लैब नहीं बनी:ओमिक्रॉन के खतरे के बीच बढ़ी मुश्किलें, 2 दिन में बढ़ी मरीजों की संख्या; कलेक्टर बोले-जल्द बनेगा

जांजगीर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

छत्तीसगढ़ में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के खतरे के बीच संक्रमण का आंकड़ा बढ़ने लगा है। यहां तक की जांजगीर जिले में भी पिछले 2 दिनों में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ी है। मगर परेशानी यहीं खत्म नहीं हो रही। जिले में 9 महीने पहले स्वीकृत हुआ RT-PCR लैब आज तक नहीं बना सका है। जिसकी वजह से अब भी RT-PCR रिपोर्ट के लिए सैंपल दूसरे जिलों में भेजना पड़ता है। तीसरी लहर की आशंका के बीच यदि लैब जल्द नहीं बना तो परेशानी और भी बढ़ सकती है।

फरवरी 2021 में कोरोना की दूसरी लहर के पहले ही जिले में RT-PCR लैब बनाने का फैसला हुआ था। तब तत्कालीन कलेक्टर यशवंत कुमार ने जांजगीर के शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में आरटीपीसीआर लैब स्थापना की पहल की थी। उस दौरान तय हुआ कि 15 दिन में लैब तैयार कर लिए जाएंगे, लेकिन इसके बाद अप्रैल में दूसरी लहर आ गई और अब धीर-धीरे कर 9 महीने बीत गए। इसके बावजूद अब तक लैब का काम शुरू भी नहीं हो सका।

जिले में एक भी RT-PCR लैब नहीं

दूसरी लहर में तो जिले में कोरोना का हालात बहुत ही खतरनाक हो गए थे। हर रोज मरीजों की संख्या बढ़ रही थी। कई लोगों की जान भी गई थी। परेशानी इसलिए भी थी कि जो लोग आरटीपीसीआर टेस्ट कर रहे थे, उनकी रिपोर्ट आने काफी समय लगा रहा था। यही वजह रही कि रिपोर्ट लेट आने और उपचार देर से शुरू करने के कारण कई लोगों की जान चले गई थी। जिले में अब तक एक भी RT-PCR लैब नहीं है।

ओमिक्रॉन को लेकर जांजगीर में अलर्ट:CMHO ने कहा-विदेश से आए लोगों की कड़ाई से जांच हो; एक दिन में ही बढ़ी मरीजों की संख्या

कलेक्टर बोले-जल्द बनेगा

इधर, RT-PCR लैब खुलने में हो रही देरी को लेकर कलेक्टर जितेंद्र कुमार शुक्ला ने कहा है कि जिला स्तर पर लैब को प्रारंभ करने की व्यवस्था की जा चुकी है। कुछ मैन पॉवर, जिसके तहत माइक्रोबायोलॉजिस्ट की आवश्यकता है। उसे पूरा करने के लिए राज्य स्तर पर निवेदन किया गया है। उन्होंने कहा कि जल्द ही आरटीपीसीआर लैब खोला जाएगा। उन्होंने कहा माइक्रोबायोलॉजिस्ट पद के लिए पहले तीन बार वैकेंसी निकाली जा चुकी है। मगर किसी ने आवेदन नहीं किया। अब एक बार फिर से प्रयास कर जल्दी भर्ती की जाएगी। कलेक्टर ने कहा मशीनरी कि भी जरूरत है, जिसके लिए उन्होंने राज्य सरकार को पत्र लिखा है।

GPM में 50% छात्रों के साथ ही खुलेंगे स्कूल:2 स्कूलों के प्रिंसिपल, 2 स्टूडेंट्स के कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद प्रशासन ने जारी किए आदेश

05 दिन में 11 मरीज मिले

दिनमरीज
02 दिसंबर03
03 दिसंबर01
04 दिसंबर00
05 दिसंबर05
06 दिसंबर02

जांजगीर में कोरोना

जांजगीर जिले में कोरोना संक्रमण की बात की जाए तो 06 दिसंबर को 2 मरीजों में कोरोना की पुष्टि हुई। 05 दिसंबर को तो 05 मरीज मिले थे। 04 दिसंबर को एक भी मरीज नहीं मिला। 03 दिसंबर को 01, 02 दिसंबर को 03 लोग कोरोना पॉजिटिव मिले थे। इस प्रकार जिले में अब तक 57669 लोग कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। जबकि 840 मरीजों की जान जा चुकी है। अब एक्टिव मरीजों की संख्या 14 है। 56,815 मरीज कोरोना से ठीक हो चुके हैं।

CG में तीन महीने पहले जैसा संक्रमण:सितंबर की शुरुआत में मिले थे 40 से अधिक पॉजिटिव, दिसंबर में 2 बार आंकड़ा 44 तक पहुंचा

एक दिन में मिले 44 मरीज

देशभर में ओमिक्रॉन के नए वैरिएंट के खतरे के बीच छत्तीसगढ़ में भी कोरोना के आंकड़े बढ़ रहे हैं। सोमवार को आई रिपोर्ट में ढाई महीने पहले जैसा संक्रमण देखने को मिला। सोमवार को एक साथ 44 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी।

विदेश से 2 लोग जांजगीर आए

बताया गया है कि कि 30 नवंबर और 02 दिसंबर को यूक्रेन व दुबई से दो युवक जांजगीर आए हैं। जिन्हें होम आईसोलेशन में रखा गया है। उनका सैंपल लेबल लेने के बाद वायरोलॉजी लैब हैदराबाद भेजा गया है। फिलहाल इनकी रिपोर्ट अभी नहीं आई है। प्रशासन ने बाहर से आने वाले लोगों पर कड़ी निगरानी के पहले ही निर्देश दिए हुए हैं।

खबरें और भी हैं...