पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

डिप्रेेशन:हॉस्पिटल से भागा संक्रमित, बहन को फोन कर बताया; ट्रेन से कटकर कर रहा हूं आत्महत्या

जांजगीरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोविड होने पर आत्महत्या का दूसरा मामला, इससे पहले युवक ने सेंटर में ही लगाई थी फांसी

कोरोना का एक मरीज बुधवार की देर रात कोविड केयर सेंटर से भाग गया और मालगाड़ी के सामने कूदकर आत्महत्या कर ली। मरने से पहले उसने अपनी बहन को फोनकर बताया कि वह आत्महत्या कर रहा है। उसने सोशल मीडिया में अपनी मां के नाम मैसेज भी किया कि वह बेटा होने का फर्ज नहीं निभा सका। जिला मुख्यालय से कुछ दूर पर बसे गांव कुलीपोटा निवासी युवक पंकज तिवारी (25 वर्ष) पिता राजू प्रसाद तिवारी बिलासपुर के एक सीमेंट कंपनी में सुपरवाइजर था। वह 15 सितंबर काे अपने गांव आया था। उसके घर में बच्चे और उसके पिता और मां है इसलिए उसने थोड़ी असहज महसूस होने पर कोविड टेस्ट कराया। टेस्ट में उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। कोरोना की पुष्टि होने पर उसे दिव्यांग कोविड केयर सेंटर जांजगीर में इलाज के लिए भर्ती किया गया। दूसरे दिन 16 सितंबर को उसने अपने घर वालों को अस्पताल में नहीं रहने तथा होम आइसोलेशन की व्यवस्था करने कहा। उसके घर वाले इसकी व्यवस्था में दिन भर लगे रहे, लेकिन बुधवार को होम आइसोलेशन की प्रक्रिया पूरी नहीं हो पाई। उसके घर वालों ने उसे बताया कि प्रक्रिया हो गई है, गुरुवार को उसे होम आइसोलेशन की अनुमति मिल जाएगी, लेकिन युवक परेशान हो गया और देर रात वह दिव्यांग कोविड केयर सेंटर से भाग निकला। खोखसा फाटक के पास जाकर युवक ने मालगाड़ी के सामने कूदने की कोशिश की और ट्रेन से टकरा कर छिटक गया, जिससे उसकी मौत हो गई।

लोग भूले प्रोटोकॉल: खुद को बचाना है तो ऐसा न करें
युवक द्वारा आत्महत्या करने की सूचना मिलने पर उनके घर वाले, परिजन तथा गांव के लोग मौके पर पहुंचे। घटना स्थल पर भारी भीड़ लग गई। सबको पता था कि युवक कोविड पॉजिटिव है, उसे छूने से संक्रमण का खतरा अधिक है, इसके बाद भी लोग उसके करीब जाते रहे। प्रोटोकाल भूल गए। हालांकि यह दुख का समय है, एक जवान बेटा, भाई, पति, पिता के चले जाने का दुख असहनीय होता है, लेकिन इस महामारी ने ऐसी स्थिति ला दी है कि खुद को कोरोना से बचाने के लिए यह जरूरी है कि स्थिति चाहे जैसी हो खुद को बचाना भी जरूरी है।

मां के नाम मैसेज किया, जब तक मौके पर पहुंचे घर वाले, तब तक दूर जा चुका था युवक
पुलिस के अनुसार युवक ने काेविड अस्पताल से निकलने के बाद अपनी बहन को फोन किया। उसने अपनी बहन को बताया कि वह अस्पताल से भाग निकला है, खोखसा फाटक के पास है तथा आत्महत्या करने जा रहा है। उसकी बहन चौक गई उसने घरवालों को जानकारी दी,जब तक उसके घरवाले मौके पर पहुंचते युवक उन सबसे दूर जा चुका था। पटरी पर उसकी लाश पड़ी थी। सुसाइड करने से पहले उसने अपनी बहन को ही वाट्स एप से मैसेज भी किया जिसमें उसने अपनी मां को लिखा कि वह बेटा होने का फर्ज नहीं निभा सका।

आखिर कोविड अस्पताल से बाहर कैसे निकला युवक
यह बहुत बड़ा सवाल है कि आखिर युवक देर सुबह लगभग 4 बजे कोविड केयर सेंटर से बाहर कैसे निकल गया। क्या वहां अस्पताल का दरवाजा खुला रहता है या फिर युवक कूदकर वहां से निकला। यह काेविड मरीजों की सुरक्षा को लेकर बड़ा सवाल है कि आखिर वह निकल कैसे गया।

सीसीटीवी कैमरे के फुटेज खंगाल रही पुलिस
हालांकि पुलिस अब अस्पताल में लगे सीसी टीवी के फुटेज खंगाल रही है कि आखिर युवक निकला कैसे। क्या वह कूद कर भागा या फिर गेट से निकला इस पहेली में पुलिस दिन भर उलझी रही। टीआई लखेश वहां लगे सीसी टीवी के फुटेज खंगालते रहे।

इससे पहले भी एक युवक कर चुका है आत्महत्या
दिव्यांग कोविड सेंटर में भर्ती कोविड पॉजिटिव मरीज द्वारा आत्महत्या करने का जिले में यह दूसरा मामला है। इससे पहले 6 अगस्त को डभरा क्षेत्र के एक युवक ने इसी अस्पताल के बाथ रूम में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी।

डरा हुआ था युवक
टीआई लखेश केंवट ने बताया कि उसके पिता ने बताया है कि युवक अस्पताल में डरा हुआ था। वह अस्पताल में नहीं रहना चाहता था, उसने घरवालों को अस्पताल से बाहर ले जाने के लिए कहा था।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- पिछले कुछ समय से आप अपनी आंतरिक ऊर्जा को पहचानने के लिए जो प्रयास कर रहे हैं, उसकी वजह से आपके व्यक्तित्व व स्वभाव में सकारात्मक परिवर्तन आएंगे। दूसरों के दुख-दर्द व तकलीफ में उनकी सहायता के ...

और पढ़ें