पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बैठक:गोठान का निरीक्षण नहीं करने पर जिले के 9 में 7 जनपदों के सीईओ को शोकाज नोटिस

जांजगीर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बैठक में निर्देश देते सीईओ जिपं व उपस्थित जपं के सीईओ। - Dainik Bhaskar
बैठक में निर्देश देते सीईओ जिपं व उपस्थित जपं के सीईओ।
  • जिपं सीईओ ने ली जपं सीईओ की बैठक जैविक खाद के लिए किसानों को प्रेरित करने के निर्देश

जिला पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी गजेन्द्र सिंह ठाकुर ने गोधन न्याय योजना एवं विभागीय योजनाओं की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि खरीफ फसल के लिए गोठान में तैयार वर्मी कम्पोस्ट के लिए किसानों को गांव में जाकर प्रेरित करें, ताकि जैविक खेती को बढ़ावा दिया जा सके। उन्होंने गोठान में गोबर खरीदी के अनुसार निर्धारित समय सीमा में खाद तैयार नहीं करने, गोठान का निरीक्षण नहीं करने पर नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने अकलतरा, पामगढ़, बलौदा, सक्ती, जैजैपुर, डभरा, नवागढ़ को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

जिपं सीईओ श्री ठाकुर ने कहा कि एनजीजीबी के तहत गोधन न्याय योजना बेहद महत्वपूर्ण है। राज्य सरकार की मंशानुरूप सभी जनपद पंचायत गोठान में नियमित रूप से मानिटरिंग करते हुए कार्य करें। गोठान, गोधन न्याय योजना के कार्यों में किसी तरह की कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

प्रत्येक कार्य के लिए समय सीमा निर्धारित की गई है, उसी समय सीमा में कार्य पूर्ण किए जाएं। उन्होंने कहा कि गोधन न्याय योजना के माध्यम से गोठान में पशुपालकों के माध्यम से गोबर की खरीदी के अनुपात में ही वर्मी कम्पोस्ट खाद तैयार की जाए। तैयार होने के बाद उसे पैकेजिंग करने के उपरांत सोसायटी एवं किसानों को उपलब्ध कराई जाए। उन्होंने वर्मी कम्पोस्ट में डाले गए गोबर को 31 जुलाई तक वर्मी कम्पोस्ट तैयार करने के निर्देश सभी जनपद पंचायत सीईओ को दिए।

बैठक में महात्मा गांधी नरेगा के माध्यम से परिवारों को 100 दिवस का रोजगार उपलब्ध कराने, जियो टैगिंग करने, पूर्ण कार्यों के कार्य पूर्णता प्रमाण पत्र जारी करने के निर्देश दिए। स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के तहत बनाए जा रहे ठोस एवं तरल अपशिष्ठ प्रबंधन, सामुदायिक शौचालय, हाईवे शौचालय आदि की समीक्षा करते हुए निर्माण कार्यों को समय सीमा में पूर्ण करने कहा। बैठक में जिला एवं जनपद पंचायत अधिकारी मौजूद रहे।

गोठान में शुरू करें मल्टी एक्टिविटी
जिपं सीईओ ने कहा कि गोठान के माध्यम से महिला स्व सहायता समूहों को जोड़ते हुए उन्हें स्वरोजगार के साधन मुहैया कराए जाएं। मॉडल गोठान में मल्टीएक्टिविटी गतिविधियों के संचालन से समूहों को बेहतर रोजगार प्राप्त होगा। उन्होंने कहा कि गोठान से समूहों को बेहतर आय हो इसके लिए उन्हें प्रशिक्षण भी दिया जाए।

खबरें और भी हैं...