पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

उपलब्धि:जिले की बेटी कर रही तंजानिया के किलिमंजारो पर चढ़ने की तैयारी

जांजगीर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • अमिता 17 हजार 600 फीट ऊंची ग्लेशियर माउंट पर कर चुकी हैं फतह, हैदराबाद के ट्रायल में चयन होने के बाद मिला मौका

जिले की एक बेटी अमिता श्रीवास ने पहले मार्शल आर्ट को कॅरियर बनाने का प्लान किया पर इसमें ज्यादा सफलता नहीं मिली तो पर्वतारोहण की ओर रूख किया। करीब पांच साल की कड़ी मेहनत और विभिन्न पर्वतों की चढ़ाई पूरी करने के बाद अब 31 साल की अमिता श्रीवास की तंजानिया के सबसे ऊंचा पर्वत माउंट किलिमंजारो पर चढ़ने का मौका मिला है। इसे चढ़ाई को सफलतापूर्वक चढ़ने के बाद उन्हें दुनिया की सबसे ऊंची पर्वत श्रेणी एवरेस्ट को चढ़ने के लिए पात्रता मिल जाएगी। ऐसे में अमिता उसकी तैयारी में जुट गई है।

जानिए, अमिता की जुबानी, मार्शल आर्ट सीखने से लेकर पर्वतारोही बनने तक की कहानी
वर्ष 2007-08 में मार्शल आर्ट के लिए कैंप लगा था। यहां से मैंने मार्शल आर्ट सीखा, पहले इसी क्षेत्र में जाने की मंशा थी, लेकिन मार्गदर्शन भी सही नहीं मिल सका और शायद हमारे जिले का माहौल भी ऐसा नहीं रहा। उसी समय कुछ अलग करने का मन बना लिया था। इस दौरान 2011 में महिला एवं बाल विकास विभाग में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की नौकरी लग गई। विभाग में आने के बाद भी अपने सपने को जीने की कोशिश करती रही। 2016 में प्रदेश के पहले पर्वतारोही अंबिकापुर के राहुल गुप्ता से मिली, लेकिन लोगों को पर्वतारोहण के बारे में बताने से भी डर लगता था, इसलिए बता भी नहीं पाती थी लेकिन तैयारी करती रही। वर्ष 2018 में स्वामी विवेकानंद इंस्टीट्यूट ऑफ माउंटरी से 10 दिनों का बेसिक रॉक क्लाइबिंग काेर्स किया। इससे पहाड़, चढ़ने, उतरने कहीं परेशानी आई तो उससे निपटने की तकनीकी जानकारी मिली। इसके बाद सिक्किम सरकार के इंडियन हिमालयन कोर्स ऑफ एडवेंचर एंड इको टूरिज्म में 28 दिनों का बेसिक माउंटेरी कोर्स किया। यहां ए ग्रेड मिला। यही ए ग्रेड हैदराबाद में काम आया। इसके बाद 17600 फीट ग्लेशियर माउंट पर चढ़ाई की। इसके बाद 18 हजार फीट की चढ़ाई चढ़ी। फिर हैदराबाद में तकनीकी ट्रायल हुआ। इसके बाद अफ्रीका महाद्वीप में तंजानिया के सबसे ऊंचा पर्वत माउंट किलिमंजारो में चढ़ने के लिए चयन हुआ। इसकी ऊंचाई 5895 मीटर है और पहाड़ी की चोटी तक पहुंचने में कम से कम 5 दिन लगेंगे।
(जैसा अमिता श्रीवास ने बताया)

यहां मिली सफलता तो एवरेस्ट की चोटी पर चढ़ना होगा तय
अमिता श्रीवास ने बताया कि अफ्रीका महाद्वीप में तंजानिया के माउंट किलिमंजारो में सफलतापूर्वक चढ़ाई करने के बाद उन्हें दुनिया की सबसे ऊंची एवरेस्ट की चोटी पर चढ़ने के लिए मौका मिल जाएगा। उन्होंने बताया कि पर्वतारोहण के दौरान उन्हें 20 किलो वजन का भारी सामान भी अपनी पीठ पर उठाकर चलना होता है।
अटल बिहारी वाजपेयी पावर प्लांट ने दी 2.70 लाख रुपए की आर्थिक मदद
एबीवीटीपीएस मड़वा ने सीएसआर मद से पर्वतारोही अमिता श्रीवास को दो लाख 70 हजार 795 रुपए की आर्थिक सहायता दी है। कलेक्टर यशवंत कुमार एवं मुख्य अभियंता एचएन कोसरिया के हाथों पर्वतारोही अमिता को सहयोग राशि दी गई।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी विशिष्ट कार्य को पूरा करने में आपकी मेहनत आज कामयाब होगी। समय में सकारात्मक परिवर्तन आ रहा है। घर और समाज में भी आपके योगदान व काम की सराहना होगी। नेगेटिव- किसी नजदीकी संबंधी की वजह स...

    और पढ़ें