पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लेटलतीफी:बारिश हुई खत्म लेकिन ठेकेदार शुरू नहीं कर रहा रेलवे ओवरब्रिज का काम, विभाग निभा रहा शोकाज की औपचारिकता

जांजगीरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • खरसिया के बजरंग मिनरल्स को मिला है ठेका, भूमिपूजन के 4 माह बाद भी काम शुरू नहीं

अकलतरा नगर में बने रेलवे ओवरब्रिज की मरम्मत को लेकर न तो ठेकेदार गंभीर है न ही विभागीय अधिकारी इसे गंभीरता से ले रहे हैं। चार माह पहले मरम्मत कार्य शुरू कराने के लिए विधायक से भूमिपूजन कराया, फिर कांग्रेस नेताओं ने दबाव बनाया तो मरम्मत भी शुरू कराई, लेकिन अभी भी केवल पानी निकालने के लिए ही गड्ढा बनाने का ही दावा किया जा रहा है, अब जबकि बारिश भी खत्म हो गई है, ठेकेदार काम ही नहीं कर रहा है, दूसरी ओर विभागीय अधिकारी काम नहीं करने पर कार्रवाई करने के बजाय केवल शोकाज की औपचारिकता निभा रहे हैं। नगर पालिका अकलतरा में मुंबई- हावड़ा ट्रैक पर शास्त्री चौक से बलौदा रोड तक 715 मीटर लंबा ओवरब्रिज बनाया गया है। यह ब्रिज चार साल पहले ही अस्तित्व में आया है और लगातार इस ब्रिज की मरम्मत कराई जा रही है। ठेकेदार ने कैसा काम किया इसका ठेका तत्कालीन मंत्री राजेश मूणत ने लेते हुए गुणवत्ता की गारंटी ली थी। लेकिन गुणवत्ता कितनी अच्छी है यह ब्रिज के शुरू होने के बाद ही स्पष्ट हो गया था, लेकिन सेतु निगम के अधिकारियों ने आज तक ठेकेदार के खिलाफ कॉल नहीं लिया। बल्कि मखमल के कुर्ते पर टाट का पैबंद लगाने की तर्ज पर मरम्मत पर मरम्मत कराते रहे। अब स्थिति ऐसी हो गई है कि ब्रिज के ऊपर न केवल गड़्ढे हुए हैं बल्कि अंदर का सरिया भी झांकने लगा है, इसके बाद भी विभागीय अधिकारियों ने कोई कार्रवाई नहीं की क्योंकि पांच साल तक मरम्मत की जिम्मेदारी ठेकेदार की होती है, इसलिए गुणवत्ताहीन कार्य होने पर कार्रवाई करने के बजाय उसे मौका देते रहे। अभी भी वही स्थिति है। सरकार ने फिर एक बार मरम्मत के लिए 53 लाख रुपए स्वीकृत किया है और काम का ठेका खरसिया के बजरंग मिनरल्स को दिया गया है। जून में काम का भूमिपूजन कराया गया था, चार माह बित गए काम के नाम एक ईंट नहीं रखी जा सकी है।

लॉकडाउन में ही कराया था भूमिपूजन, अब निर्माण में देरी के लिए उसी का बना रहे बहाना
सेतु निगम के अधिकारी भी इस ब्रिज की मरम्मत को लेकर गंभीर नहीं हैं। खुद को व ठेकेदार को बचाने के लिए यह बहाना बनाया जा रहा है कि लॉकडाउन के कारण काम प्रभावित हुआ है, जबकि इस कार्य का भूमिपूजन ही लॉकडाउन में जून में कराया गया,तो फिर लाॅकडाउन का बहाना क्यों। इन चार माह में सेतु निगम द्वारा केवल एक बार ठेकेदार को शोकाज नोटिस की औपचारिकता निभाई गई है।

जानिए... इस प्रकार की देरी से लागत पर पड़ेगा असर
सरकार ने 53 लाख रुपए स्वीकृत किया है, ठेका तो हो गया किंतु काम नहीं हो रहा है, इसका सीधा असर इसके कास्ट पर पड़ेगा, जितनी देरी होगी उतना ही बजट बढ़ेगा। देरी के लिए ठेकेदार की जिम्मेदारी तय करने के बजाय उसे मौका दिया जा रहा है, ताकि कास्ट बढ़ने पर फिर से रिवाइज्ड एस्टीमेट बनाया जा सके।
भास्कर में खबर छपी तो सेतु निगम ने कलेक्टर को दी सफाई
दैनिक भास्कर ने 18 अक्टूबर को इस ओवरब्रिज की लेटलतीफी को लेकर फंड मिलने के बाद भी मरम्मत नहीं खबर छापी थी। इसके बाद कलेक्टर ने खबर की कतरन सेतु निगम के अधिकारियों को भेजी और जवाब तलब किया तो तब सेतु निगम के अधिकारियों द्वारा ठेकेदार के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाय उसे शोकाज नोटिस देने की जानकारी कलेक्टर को दी गई।
ठेकेदार को नोटिस भेजा है
"बारिश और लॉकडाउन के कारण काम प्रभावित हुआ है, पानी निकालने के लिए पाइप लाइन डाला गया। ठेकेदार को केवल एक बाद शोकाज नोटिस दिया गया है, कांक्रीट कोट को निकालकर डामरीकरण किया जाएगा। खरसिया के बजरंग मिनरल्स द्वारा काम किया जा रहाहै।''
-रमेश वर्मा, एसडीओ, सेतु निगम

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां पूर्णतः अनुकूल है। सम्मानजनक स्थितियां बनेंगी। आप अपनी किसी कमजोरी पर विजय भी हासिल करने में सक्षम रहेंगे। विद्यार्थियों को कैरियर संबंधी किसी समस्या का समाधान मिलने से ...

और पढ़ें