फिरौती की मांग:इंस्टाग्राम में प्यार का झांसा दे युवती को ले गया फिर उसके पिता से मांगे 30 लाख

जांजगीर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फिरौती मांगने वाला प्रमुख आरोपी लाल टी शर्ट में व उसका साथी। - Dainik Bhaskar
फिरौती मांगने वाला प्रमुख आरोपी लाल टी शर्ट में व उसका साथी।
  • युवती को पचमढ़ी, भेड़ाघाट घुमाने के बहाने युवक ले गया था साथ, मुख्य आरोपी व उसके दोस्त सहित दो गिरफ्तार, लगातार हो रही ऐसी घटनाएं सबक है पालकों के लिए कि वे नजर रखें बच्चों के मोबाइल पर

इंस्टाग्राम पर जिला मुख्यालय के भाठापारा की एक बाइस साल की युवती का पिपरिया के एक युवक से परिचय हो गया। इसी प्लेटफार्म पर दोनों की चैटिंग होती रही, फिर दोनों में मोहब्बत हो गई। युवक ने युवती को मप्र के पचमढ़ी, भेंडाघाट आदि को घुमाने के लिए अपने साथ चलने कहा। युवती उसके साथ चलने राजी हुई तो वह उसे लेने जांजगीर तक आकर अपने साथ ले गया।

चार दिन अपने साथ रखने के बाद अपने दोस्त के मोबाइल से युवती के पिता से 30 लाख रुपए फिरौती की मांग की। शिकायत पर पुलिस ने आरोपी तक पहुंचने का प्लान बनाया और पिपरिया के होटल से मुख्य आरोपी युवक व उसका साथ देने वाले दोस्त को पकड़ा। युवती भी उसी होटल में मिली। टीम लीडर एएसआई सुरेश पाठक के अनुसार जांजगीर भाठापारा के एक 22 साल की युवती का मप्र के अल्ताफ खान से इंस्टाग्राम में दोस्ती हो गई। ये दोस्ती प्यार मेें बदल गई। युवक ने युवती को प्रेम करने का झांसा दिया। युवक ने उसे घुमाने का सपना दिखाया और 24 सितंबर को खुद उसे लेने के लिए ट्रेन से जांजगीर आ गया।

इसी दिन युवती घर से निकली और दोनों छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस से युवक युवती को लेकर नागपुर चला गया। यहां दिन बिताने के बाद अल्ताफ खान युवती को लेकर होशंगाबाद के पिपरिया चला गया। युवक ने युवती के पिता का नंबर लेकर उनके नंबर पर मैसेज किया कि उसकी बेटी उसके कब्जे में है। यदि वह बेटी को सलामत चाहता है तो 30 लाख रुपए लेकर आ जाए। युवती के पिता ने इसकी शिकायत कोतवाली थाने में की थी। एसपी प्रशांत सिंह ठाकुर ने एएसआई सुरेश पाठक के नेतृत्व में मनोज तिग्गा, आरक्षक प्रदीप दुबे, गिरिश कश्यप, आरक्षक चिरंजीव व महिला आरक्षक रेणु कुजूर की टीम बनाई। पुलिस टीम ने आरोपी सुआताल जिला नरसिंहपुर मध्यप्रदेश निवासी युवक अल्ताफ खान (21 वर्ष) पिता बशीर खान एवं उसका साथी शुभम नामदेव ( 27 वर्ष)पिता चंदन नामदेव को गिरफ्तार कर ट्रांजिट रिमांड पर जांजगीर लाया। दोनों आरोपियों को जेल भेज दिया गया है।

पिता ने सप्ताह भर का समय लेकर पुलिस की मदद ली तो बच गई युवती
एएसआई श्री पाठक के अनुसार आरोपी युवक युवती के पिता से फिरौती मांग रहा था, लेकिन इसकी जानकारी युवती को नहीं थी। युवती ने फिरौती मांगने की घटना से खुद को अनजान बताया है। जब युवक ने वाट्स एप पर मैसेज किया तो युवती के पिता ने इतनी बड़ी रकम की व्यवस्था करने में असमर्थता जताते हुए सप्ताह भर का समय मांगा और थाना में शिकायत की। फिरौती मांगने की घटना की सूचना मिलने पर पुलिस ने इसे गंभीरता से लिया तथा आरोपी युवक का लोकेशन ट्रेस करते रहे। युवती के पिता की समझदारी ने भी पुलिस की मदद की और युवती की जान बच गई। अन्यथा बड़ी घटना भी हो सकती थी।

लॉज में युवती को बताया था अपनी पत्नी आरोपियों तक ऐसे पहुंची पुलिस टीम
पुलिस की टीम आरोपी के मोबाइल नंबर के लोकेशन को ट्रेस करते हुए पहुंची। आरोपी ने पिपरिया से एक दुकानदार से उसका बार कोड लेकर उसी नंबर पर दस हजार डालने के लिए फिर युवती के पिता को मैसेज किया। पुलिस ने उससे दो हजार रुपए डलवाए। इसके बाद पुलिस उस दुकान में पहुंची तो आरोपी अपना लोकेशन बदल चुका था। पिपरिया टीआई अजय तिवारी की टीम ने भी मेहनत की और युवक का लोकेशन पिपरिया के परमगीता लॉज मिला। वहां पुलिस ने छापा मार कार्रवाई की। वहां युवक ने खुद को राजा पटेल बताया था और युवती की पहचान अपनी पत्नी के रूप में बताई थी। पुलिस ने यहीं दोनों को पकड़ा।

खबरें और भी हैं...