मजदूरों की परेशानी:दूसरे प्रदेश से लौटे श्रमिकों को घर जाने करना पड़ा इंतजार, अहमदाबाद एक्सप्रेस से आए 35 मजदूर को ढाई घंटे बाद मिला वाहन

अकलतरा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इंतजार में ऐसे बैठे रहे स्टेशन के बाहर मजदूर। - Dainik Bhaskar
इंतजार में ऐसे बैठे रहे स्टेशन के बाहर मजदूर।

रेल्वे स्टेशन में अहमदाबाद एक्सप्रेस से राउरकेला से आए 35 मजदूरों को स्टेशन के बाहर आने के बाद घर जाने के लिए वाहन नहीं मिलने से तपती धूप में ढाई घंटे तक इंतजार करना पड़ा। बस नहीं चलने से अधिक किराया देकर मजदूरों को घर जाना पड़ा।

अहमदाबाद एक्सप्रेस से गुरुवार की सुबह 11.30 बजे 35 मजदूर परिवार सहित पहुंचे। रेलवे स्टेशन परिसर में स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा सभी लोगों की कोरोना जांच करने पर सभी की रिपाेर्ट निगेटिव अाइर्। मजदूर परिवार के साथ सामान लेकर रेलवे स्टेशन के बाहर निकले, लेकिन कोई भी साधन उपलब्ध नहीं होने पर मजदूर परेशान रहे। नगर के कुछ लोगों द्वारा मजदूर को परेशान देखकर अधिकारियों को सूचना दी गई। मजदूर वाहन आने का इंतजार करते रहे, लेकिन वाहन के नहीं आने पर दो गुनी कीमत देकर निजी वाहन से पामगढ़ क्षेत्र के मेऊ एवं भिलौनी के लिए मजदूर रवाना हुए।

मेऊ के मजदूर उत्तम बंजारे एवं राममिलाप दिनकर ने बताया कि ओडिशा के राउरकेला में परिवार सहित ईंट भट्टा में कार्य करने के लिए 4 महीने पहले गए थे। लॉकडाउन के चलते ईंट भट्टा बंद होने एवं रोजगार नहीं मिलने से लौटना पड़ा।

ऑटो की अनुमति लेकिन कीमत अधिक

लॉकडाउन के चलते जिला प्रशासन ने रेलवे स्टेशन से ऑटो का संचालन करने की अनुमति तो दी है। लेकिन यात्रियों की संख्या कम होने के कारण कोई भी इन दिनों निकल नहीं रहा है। जाे लोग रहते हैं वे लोग मनमानी कीमत मांगते हैं। होटल एवं अन्य दुकानें बंद होने से मजदूरों के साथ साथ ट्रेन से आने वाले यात्रियों को पीने के पानी, खाद्य सामग्री नही मिलने से परेशानी बढ़ रही है।

खबरें और भी हैं...