कोरोना वैसीनेशन:18 से अधिक उम्र के 4 लाख 50 हजार को लगेगी वैक्सीन, सबको टीका लगने में दो माह से अधिक का लग सकता है वक्त

जशपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कोविड टीका लगवातीं शहर की महिला। - Dainik Bhaskar
कोविड टीका लगवातीं शहर की महिला।

कोरोना संक्रमण की चैन तोड़ने के लिए 1 मई से 18 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों को टीका लगाया जाना है। जशपुर जिले में 18 साल की उम्र पार कर चुके लोगों की जनसंख्या लगभग 4 लाख 89 हजार है। अभी जिस तरह के टीकाकरण के लिए केन्द्र बनाए गए हैं, अगर उतने ही केन्द्रों में टीकाकरण का काम एक साथ शुरू किया जाता है, तो भी सभी लोगों को टीका लगने में करीब दो महीने का वक्त लग सकता है।

हालांकि कितने केन्द्रों में 1 मई से 18 साल से अधिक उम्र वालों को टीका लगाया जाएगा इसका निर्धारण अभी नहीं हो पाया है। स्वास्थ्य विभाग के अफसर अभी स्पष्ट रूप से कुछ भी नहीं बता पा रहे हैं। जिले की कुल जनसंख्या के आधार पर युवाओं का प्रतिशत निकाल लिया गया है।

जिस हिसाब से साढ़े 4 लाख से अधिक युवा हैं जिन्हें टीका लगाया जाना है। 1 मई से शुरू होने वाले टीकाकरण के लिए टीके की नई खेप आएगी। बताया जाता है कि अभी जो टीके जिले में उपलब्ध हैं वे 45 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए हैं। यह टीके उन्हें ही लगाए जाएंगे।

18 से अधिक उम्र वालों को टीका नई खेप आने के बाद ही शुरू किया जाएगा। नई खेप में कितनी संख्या में टीका जशपुर जिले में भेजा जाएगा उस हिसाब से टीकाकरण केन्द्र भी बनाए जाएंगे। यदि टीके का डोज कम होगा तो कम केन्द्रों में ही इसकी शुरुआत की जाएगी। अबतक शासन स्तर से इसके लिए गाइडलाइन नहीं आए हैं। हालांकि स्वास्थ्य विभाग ने अपनी ओर से तैयारी पूरी कर ली है।

टीका लगवा चुके लोगों पर नहीं संक्रमण का असर

जिन लोगों ने टीका लगवा लिया है वे यदि कोविड से संक्रमित भी हो रहे हैं तो उनपर वायरस का ज्यादा असर नहीं हो रहा है। सीएमएचओ कार्यालय में पदस्थ कई स्वास्थ्य कर्मी हाल ही में कोरोना संक्रमित हुए हैं। पर हेल्थ वर्कर के तौर पर उन्हें टीके की दोनोें डोज लग चुकी है। इसलिए संक्रमित होने के बावजूद उन्हें हल्का बुखार या एक दाे दिन सर्दी हो रही है। इससे ज्यादा कोई समस्या पैदा नहीं हो रही है। दवा के 5 दिन के डोज से वे ठीक हो रहे हैं।

आरोग्य सेतु एप या कोविन पोर्टल पर होगा पंजीयन

अभी तक जो जानकारी आई है उस हिसाब से टीकाकरण के लिए आरोग्य सेतु एप मोबाइल पर डॉउनलोड करना है। एक नम्बर से चार लोगों का पंजीयन होगा। इसमें एप पर मांगी जा रही जानकारी लोगों को अपलोड करनी है। इसके सेशन साइट का भी चयन कर सकते हैं। पंजीयन के बाद मोबाइल पर ही वैक्सिनेशन के लिए मैसेज आएगा। इसके बाद संबंधित व्यक्ति को जाकर टीका लगवाना है। कोविन पाेर्टल पर भी रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।

संक्रमित होने के डर से टीकाकरण में गिरावट

जब से जिले में कोरोना का संक्रमण बढ़ा है। टीकाकरण की दर भी घट गई है। लॉकडाउन से पहले टीकाकरण की रफ्तार ठीक थी और रोजाना 5 हजार से 9 हजार लोग टीका लगवा रहे थे, पर जब से लॉकडाउन लगा है लोग टीकाकरण केन्द्रों तक नहीं पहुंच रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग के लक्ष्य के विरूद्ध 15 से 20 प्रतिशत ही टीकाकरण हो पा रहा है। मंगलवार को 7348 का लक्ष्य रखा गया था। पर लोग टीकाकरण केन्द्रों में पहुंचे ही नहीं। दिनभर में 1145 को ही टीका लग पाया।

खबरें और भी हैं...