लॉकडाउन फिर भी तेजी से फैल रहा है संक्रमण:जेल में बंद 21 बंदी सहित जिले में 518 नए संक्रमित

जशपुरनगर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ रहा है। गुरुवार को जिला जेल में बंद विचाराधीन बंदियों की कोरोना जांच की गई। इस जांच में 21 बंदी काेरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इसके अलावा गुरुवार को शहर में 74 नए संक्रमितों की पहचान हुई है। बुधवार को दिनभर हुई जांच में 518 नए संक्रमितों की पहचान हुई।

कोरोना का बढ़ता संक्रमण जिले में बेहद खतरनाक होता जा रहा है। संक्रमितों की संख्या बार-बार पांच सौ के आंकड़े को छू रही है। लॉकडाउन के 19 दिन गुजरने के बावजूद हालात में कोई सुधार नहीं दिख रहा है। जेल में बंद बंदी वहां रहे-रहे संक्रमित हो रहे हैं। गुरुवार को 21 बंदियों के संक्रमित होने के बाद जेल में अलग से कोविड केयर बैरक बना दिया है। सभी संक्रमित बंदियों को इसी बैरक में रखा गया है। जेलर ने बताया कि संक्रमित बंदियों की दोनों वक्त जांच की जा रही है और उन्हें दवाएं दी जा रही है। जेल में बंद बंदियों के पाॅजिटिव आने के बाद यह बात साफ हो गई है कि बाहर से जो सामान आ रहे हैं। उसके जरिए भी लोग संक्रमित हो रहे हैं।

जेल में दूध, सब्जी, राशन बाहर से आते हैं। इसके उपयोग से बंदी संक्रमित हुए हैं, क्योंकि किसी आरोपी को कोर्ट में पेश करने के पूर्व ही उसका टेस्ट कराया जाता है। जेल स्टाफ के जरिए संक्रमण फैलने जैसी बात भी नहीं है।

कुल संक्रमितों की संख्या अब 12877

बुधवार को जिले भर में 518 नए केस मिलने के बाद जिले में कुल संक्रमितों की संख्या 12 हजार 877 हो गई है। अबतक सबसे अधिक संख्या में संक्रमित जशपुर शहर के लोग हुए हैं। यहां 2447 लोग अबतक संक्रमित हो चुके हैं। कोरोना से ठीक होने वालों की संख्या 8842 है। इसमें से अधिकांश लोग होम आइसाेलेशन में रहते हुए ठीक हुए हैं।

बाहर से आने वाली सामान से पहले बरतें सावधानी

लॉकडाउन के बावजूद संक्रमण बढ़ने की वजह बाहर से आने वाली वस्तुएं भी हो सकती है। कई चीजें ऐसी हैं जिसमें कोरोना का वायरस 3 से 4 दिनों तक जिंदा रह सकता है। ऐसी स्थिति में बाहर से जो भी सामान घर आ रहे हैं उसे संभव हो तो सैनिटाइज कर लें। खुले सामान के बजाए पैकिंग सामान ज्यादा अच्छे होंगे ताकि पैकेट्स खोलकर फेंक दिया जाए। फल व सब्जियां को अच्छी तरह से धोकर उपयोग करना सही होगा।

खबरें और भी हैं...