पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अच्छी शिक्षा दिलाने का प्रयास किया जा रहा:अंग्रेजी माध्यम विद्यालयों में प्रवेश प्रक्रिया हुई पूर्ण

जशपुर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

छत्तीसगढ़ शासन की ओर से जशपुर जिले के बच्चों को अंग्रेजी माध्यम में अच्छी शिक्षा दिलाने का प्रयास किया जा रहा है। जिले में 08 विकास खण्डों में स्वामी आत्मानंद शासकीय उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय संचालित हैं। पालकों एवं बच्चों में भी उत्साह बना हुआ है और बच्चे नियमित विद्यालय में अध्ययन कर रहें हैं। यहां बच्चों निजी स्कूल की तर्ज पर ही शासकीय स्कूलों में शिक्षा दी जा रही है। सभी विकासखण्डों के अंग्रेजी माध्यम स्कूलों में लगभग 3800 सीटें निर्धारित की गई है। इनमें से 3500 सीटों में प्रवेश लेकर बच्चें पढ़ाई कर रहें हैं।

कलेक्टर ने बताया कि सत्र 2019-20 से प्रारंभ स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय जशपुर में 480 सीट अंग्रेजी माध्यम के कक्षा 1 ली से 12 वीं तक के विद्यार्थी अध्ययनरत है। विद्यालय के प्रारंभ होने से स्थानीय पालकों में अपने बच्चों को प्रवेश दिलाने के प्रति जबरदस्त रूचि दिखाई देती है। विद्यालय में प्रत्येक दिन प्रत्येक विद्यार्थी द्वारा प्रत्येक कक्षा में क्या सीखा जाता है, उसको ऑनलाइन पालकों के साथ प्रतिदिन साझा किया जाता है। महत्वपूर्ण यह है कि कक्षा 11 वीं और 12 वीं के बच्चों को आईआईटी, नीट परीक्षा की भी तैयारी कराई जा रही है, जिसका परिणाम आने वाले दिनों में मिलेगा।

डीएमएफ और शिक्षा मद से मुहैया कराई गई सुविधाएं
डीएमएफ एवं शिक्षा मद से लगभग 1.51 करोड़ रुपये स्वीकृत कर विद्यालय को सभी सुविधाओं से परिपूर्ण किया गया है। यहां बच्चों के शैक्षिक गुणवत्ता उन्नयन को ध्यान में रखते हुए सर्व सुविधायुक्त प्रयोगशाला, लाइब्रेरी सुसज्जित कक्षा एवं सभी सुविधाएं उपलब्ध हैं। पहले ही वर्ष एडमिशन हेतु 480 सीट के विरूद्ध 1400 से भी ज्यादा आवेदन आए जो इस विद्यालय के प्रति आकर्षण को दर्शाता है। निशुल्क शिक्षा और अंग्रेजी माध्यम मिलने से गरीब घरों के बच्चों के लिए यह विद्यालय आकर्षण का केन्द्र है। सभी सातों विकासखंड में भी स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम विद्यालय इसी सत्र से प्रारंभ किए गए हैं। प्रवेश की प्रक्रिया पूरी कर ली गई है।

अधूरे कार्य भी पूरे करने में जुटा प्रशासन
विद्यालयों में अत्याधुनिक सुविधाओं के साथ प्रयोग शालाएं, पुस्तकालय और सुसज्जित कक्षा तैयार किए जा रहे हैं। जिले में स्वामी आत्मानंद विद्यालय प्रारंभ किए जाने से पूरे जिले के पालकों में काफी उत्साह देखा जा रहा है। शासकीय विद्यालयों के प्रति अब पालकों का विश्वास पहले से बढ़ा है और सभी बच्चों को उच्च गुणवत्ता की शिक्षा मिल सके। इसके लिए शिक्षा विभाग और जिला प्रशासन लगातार प्रयासरत हैं। सभी विद्यालयों में डीएमएफ 5.21 करोड़ एवं शिक्षा विभाग से 3.82 करोड़ के अधोसंरचना विकास का कार्य चल रहा है।

खबरें और भी हैं...