ऑपरेशन घर वापसी:खूंटापानी में ऑपरेशन घर वापसी का कार्यक्रम आयोजित, 1200 लोगों के पांव धोकर हिन्दू धर्म में कराई वापसी

जशपुर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पांव धोकर घर वापसी कराते प्रबल। - Dainik Bhaskar
पांव धोकर घर वापसी कराते प्रबल।

पत्थलगांव के खूंटापानी में ऑपरेशन घर वापसी का कार्यक्रम हुआ। इस कार्यक्रम में प्रबल प्रताप सिंह जूदेव ने 400 परिवार के 1200 लोगों के पांव धोकर मूल धर्म में उनकी वापसी कराई। कार्यक्रम में हजारों की संख्या में लोगों की भीड़ जुटी थी। घर वापसी करने वाले अधिकांश परिवार बसना सराईपाली के थे।

पत्थलगांव के खूंटापानी में ऑपरेशन घर वापसी का कार्यक्रम आर्य समाज और हिन्दू समाज द्वारा आयोजित की गई थी। इस कार्यक्रम में हिन्दू स्वाभिमानी सूर्य की उपाधि प्राप्त जशपुर राजपरिवार के प्रबल प्रताप सिंह जूदेव मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के तौर पर रायगढ़ राजघराने के देवेन्द्र प्रताप सिंह, आर्य समाज के अंशुल देव महाराज, जशपुर के विजय आदित्य सिंह जूदेव, खुड़िया दीवान प्रदीप नारायण की उपस्थिति रही।

खूंटापानी में दो दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के पहले दिन गुरुवार को खूंटापानी में आर्य समाज द्वारा कलश यात्रा निकाली गई। इस कलश यात्रा में सैकड़ों महिलाएं शामिल हुईं। इसके बाद बाइक रैली निकली। बाइक रैली में 300 युवा शामिल हुए थे। बाइक रैली खूंटापानी से निकलकर चिकनीपानी, लुड़ेग, पत्थलगांव से लैलुंगा होते हुए वापस खूंटापानी पहुंची थी। इस रैली में शामिल युवा जय श्री राम के नारे लगा रहे थे।

हिन्दुत्व की रक्षा मेरे जीवन का एकमात्र संकल्प: प्रबल
कार्यक्रम स्थल पर सभा को संबोधित करते हुए भाजपा के प्रदेश मंत्री व ऑपरेशन घर वापसी के प्रमुख प्रबल प्रताप सिंह जूदेव ने कहा कि हिन्दुत्व की रक्षा मेरे जीवन का एकमात्र संकल्प है। आज इतनी अधिक संख्या में लोगों की मूल धर्म में वापसी अच्छे संकेत हैं। किसी की मजबूरी का फायदा उठाकर किया गया काम कभी टिकाउ नहीं होता है। मिशनरियों ने गरीबों की मजबूरी का फायदा उठाकर उनका धर्मांतरण किया था। शिक्षा व स्वास्थ्य के नाम पर धर्म का सौदा किया था। पर हम लगातार इन षड़यंत्रों को बेकनाब करते रहेंगे।

पिता के अधूरे काम को आगे बढ़ा रहे प्रबल: अंशुल
कार्यक्रम में आर्य समाज के अंशुल देव महाराज ने कहा कि प्रबल प्रताप अपने पिता स्वर्गीय दिलीप सिंह जूदेव के अधूरे काम को पूरे जी जान से आगे बढ़ा रहे हैं। कुमार दिलीप सिंह जूदेव का हिन्दुत्व रक्षा में किए गए योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता है और अब हिन्दुत्व रक्षा का यह पूरा काम प्रबल के नेतृत्व में ही आगे बढ़ेगा।

20 बसों में आए थे ईसाई
ऑपरेशन घर वापसी में मूल धर्म में वापसी करने वालों में 100 परिवार स्थानीय व 300 परिवार बसना सराईपाली से थे। बसना से 20 बसों में ईसाईयों को लाया गया था। कार्यक्रम स्थल में उन्हें मूल धर्म में वापसी कराई गई। सुरक्षा को मद्देनजर पुलिस प्रशासन के पुख्ता इंतजाम रखे थे।

3 पीढ़ी पहले बदले थे धर्म
मूल धर्म में लौटे लोगों ने बताया कि करीब तीन पीढ़ी पहले उनके पूर्वजों का धर्मांतरण हुआ था। उस वक्त वे बेहद गरीब थे और खेती में कुछ मदद और बीमारियों में इलाज की सहायता मिलने के कारण पूर्वजों ने धर्म परिवर्तन कर लिया था। पर अब वे जागरूक हो गए हैं।