पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

निशुल्क सेवा:एम्स के डॉक्टर दुर्गम क्षेत्रों में जाकर कर रहे हैं जांच इलाज के साथ निशुल्क परामर्श, दे रहे हैं हेल्थ टिप्स

जशपुर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • अब तक 1200 से ज्यादा ग्रामीण हो चुके हैं डॉक्टरों से लाभांवित

जिले के दुर्गम क्षेत्रों में वनवासी क्षेत्रों में वनवासी कल्याण आश्रम में दिल्ली एम्स कि न्यूरोलॉजिस्ट डॉ वेद श्रीवास्तव और कार्डियोलॉजिस्ट डॉक्टर प्रवीण कई दिनों से दिनों जिले के सबसे बीहड़ क्षेत्रों में जगह जगह कैम्प लगा कर नस और हृदय रोग सम्बन्धितों को निशुल्क इलाज दे रहे हैं। आपको बता दें कि इन दोनों डॉक्टरों के द्वारा जिले के अब कई दर्जन गांव में जा कर निशुल्क सेवा देते हुए देखा गया है।

जिसमें बताया जा रहा है कि अब तक 1200 से ज्यादा लोगों ने डॉक्टरों से निशुल्क सेवा पा चुके हैं। डॉक्टरों के अंदर ऐसी भावना से कार्य करते बहुत कम देखा जाता है। सरकार की तमाम कोशिशों के बावजूद मेडिकल इंटर्न दूरस्थ क्षेत्रों में नियुक्ति से बचते हैं। अधिक जोर दिए जाने पर अपनी नौकरी तक छोड़ देते हैं। न्यूरोलॉजिस्ट डॉ वेद श्रीवास्तव महिला होने के बावजूद कई दिनों तक बीहड़ क्षेत्रों में रहकर इलाज कर रही हैं। निशुल्क कार्य करते हुए इन दिनों जशपुर जिले के अंदर इन दो डॉक्टरों को देखा जा सकता है।

अपनानी होगी प्राकृतिक जीवनशैली
वहीं हमने जब डॉक्टर प्रवीण कार्डियोलॉजिस्ट से बात किया तो उन्होंने कहा कि वनवासी क्षेत्रों में मैं हृदय रोग और पैरालाइसिस को शिकायत कम होनी चाहिए, किंतु हम देखकर दंग रह गए कि यहां युवा लोगों में हृदय रोग और पैरालाइसिस की शिकायतें अधिक मिल रही है जो कहीं ना कहीं चिंतनीय है।

साधारण नहीं है बीमारियां, ये चिंता का विषय
हमने दिल्ली एम्स से जशपुर के बीहड़ क्षेत्रों में वनवासियों के बीच सेवा देने आए डॉक्टर वेद श्रीवास्तव न्यूरोलॉजिस्ट और कार्डियोलॉजिस्ट डॉक्टर प्रवीण ने बताया वनवासी कल्याण आश्रम जैसी संस्था की वजह से मुझे सेवा देने का प्रेरणा मिलती है। हमें जैसा कि सामाजिक संस्था ने बताया कि इन क्षेत्रों में ज्यादा से ज्यादा वायरल फीवर, स्किन संबंधित रोग मिलेंगे परन्तु यहां लेकिन जब जांच की तो पता चला कि यहां कई तरह की जीवन शैली से संबंधित बीमारियां की भी समस्या बड़े पैमाने पर मिली है। जो चिंता का विषय है। इन सबसे बचाव के लिए क्षेत्र के लोगों को अपने खानपान पर ध्यान देने और खेल कूद में भी समय लगाएं और बच्चों को खेल कूद में अधिक ध्यान कराएं तब इन बीमारियों से बचा जा सकता है।

खबरें और भी हैं...