आत्मानंद शिक्षक भर्ती में गड़बड़ी:विधायकों का आरोप- हमारी सुनवाई नहीं, शिक्षा मंत्री बीजेपी के लोगों को प्रतिनियुक्ति पर दिल्ली भेज रहे

जशपुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कार्रवाई में देरी हुई तो विधायकों ने ही अपनी सरकार के शिक्षा मंत्री के खिलाफ खोला मोर्चा

जशपुर में अंग्रेजी माध्यम शिक्षकों की भर्ती में हुई गड़बड़ी मामले में विधायकों ने अपनी सरकार में शिक्षा मंत्री प्रेम साय टेकाम के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। विधायक बृहस्पत सिंह के नेतृत्व में मंत्री के पास पहुंचे विधायकों का कहना है कि मंत्री विधायकों की जायज मांगों को अनसुना करते है। भर्ती और प्रतिनियुक्ति में बीजेपी के लोगों को लाभ दे रहे हैं। आत्मानंद शिक्षक भर्ती में गड़बड़ी के मामले में जशपुर जिले के डीईओ पर कार्रवाई में देरी हो रही।

कुनकुरी विधायक और संसदीय सचिव यूडी मिंज ने कहा कि जशपुर अंग्रेजी माध्यम स्कूल में भर्ती में गड़बड़ी के मामले में हुई जांच में डीईओ दोषी पाए गए हैं। इसके बावजूद मंत्री ने कार्रवाई में देरी की। सत्र बीत रहा है और शिक्षक भर्ती नहीं होने से बच्चों की पढ़ाई पर बुरा प्रभाव पड़ा है। मैंने और जशपुर विधायक ने इसके पहले भी डीईओ की शिकायत की थी कि विवादित डीईओ की बहाली हमारे जिले में न कि जाए, मुख्यमंत्री से डीईओ को हटाने को कहा था, इसके बावजूद शिक्षा मंत्री ने उनकी बात को अनसुना कर दिया।

डीईओ बीजेपी के साथ मिलकर सरकार को बदनाम करने के लिए आए दिन साजिश रचते रहते है। ट्रांसफर पोस्टिंग और कार्रवाई में पूरी तरह से मनमानी कर रहे है। इसकी शिकायत मुख्यमंत्री से करेंगे। संसदीय सचिव चंद्रदेव राय ने बताया कि शिक्षा मंत्री से साफ-साफ कह दिया कि उनकी बातों को अनसुना करना ठीक नहीं है। मंत्री के ओएसडी अजय सोनी बीईओ सहित अन्य भर्ती में धांधली कर रहे है।

शिक्षा मंत्री के खिलाफ विधायकों ने खोला मोर्चा:

मांग पूरी नहीं होने पर दर्जनों विधायकों ने प्रदेश के शिक्षा मंत्री का घेराव कर दिया था। विधायक बृहस्पति सिंह, कुनकुरी विधायक यूडी मिंज ,चन्द्रदेव राय, गुलाब कमरों, विनय जायसवाल सहित एक दर्जन विधायक शिक्षा मंत्री प्रेम साय टेकाम से मिलकर उनकी कार्यशैली पर खुलकर नाराजगी जताई थी।

बीजेपी नहीं निभा रही विपक्ष की भूमिका

मिंज ने कहा कि बीजेपी विपक्ष की नहीं निभा रही है। इसलिए सत्ता पक्ष को ही आगे आना पड़ा। हमें इसकी चिंता नहीं की हमारी मांगों पर बीजेपी हमें घेरेगी। सीएम शिक्षा के क्षेत्र में बेहतर काम कर रहे हैं पर दोषी डीईओ पर कार्रवाई में देरी इसमें दाग लगा रहा।

बीजेपी के लोगों को मिल रहा प्रतिनियुक्ति का लाभ
विधायक गुलाब कमरों ने कहा कि शिक्षा विभाग बीजेपी के लोगों को पदस्थापना कर उन्हें प्रतिनियुक्ति में दिल्ली तक भेज रही है। बीईओ की नियुक्ति में विधायकों की मांग की अनदेखी कर धांधली की जा रही है। इस वजह से सारे विधायक शिक्षा मंत्री से नाराज है।

जांच के 20 दिन बाद भी कार्रवाई नहीं

जशपुर में स्वामी आत्मानंद इंग्लिश मीडियम स्कूलों में शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया मामले की उच्च स्तरीय जांच शुरू हो गई और जांच में गड़बड़ियां भी प्रमाणित पाई गई, लेकिन 20 दिन गुजरने के बाद भी मामले में जिला शिक्षाधिकारी के विरुद्ध कोई कार्रवाई नहीं हुई है। ऐसे में सत्ता पक्ष के विधायक ने ही शिक्षा मंत्री के खिलाफ मोर्चा खोल दिया।

विधायकों ने मोर्चा खोला तो डीईओ हुए निलंबित

आत्मानंद स्कूल भर्ती मामले में कार्रवाई नहीं होने पर विधायकों ने मोर्चा खोला तो बुधवार को शाम को अवर सचिव ने एनएस पंडा को निलंबित करने का आदेश दे दिए। शिक्षा विभाग के अवर सचिव जनक कुमार ने आदेश में कहा है कि आत्मानंद विद्यालय में भर्ती में शिकायत मिलने पर शासन ने जेडी से पूरी प्रक्रिया की जांच कराई। रिपोर्ट के आधार पर डीईओ जशपुर पर कार्यवाही करते निलंबित कर दिया है। डीईओ अन्य भर्ती मामले में अनियमितता के दोषी पाए गए हैं।

खबरें और भी हैं...