पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एक और मौत:जंगल में मिला मादा हाथी का शव, मौत का कारण पता लगाने कराया पोस्टमार्टम

जशपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • वन विभाग के अनुसार हाथियों के आपसी संघर्ष में हुई हथिनी की मौत
  • तीन डॉक्टरों की टीम ने मौके पर किया पोस्टमार्टम

जिले के कुनकुरी वन परिक्षेत्र के जंगल में मादा हाथी का शव मिलने से वनविभाग में हड़कंप मच गया है। सूचना मिलने पर विभाग के आला अधिकारी मौके पर पहुंचे। प्रारंभिक तौर पर आपसी संघर्ष में हाथी के मौत का अनुमान लगाया जा रहा है। इस साल जिले में हाथी की मौत की यह तीसरी घटना है। मिली जानकारी के अनुसार जिले के कुनकुरी वनपरिक्षेत्र के अंबाटोली पंचायत की आश्रित चामर बस्ती से लगे हुए वन्य क्षेत्र में हाथी के मृत अवस्था में पड़े होने की सूचना स्थानीय ग्रामीणों ने बुधवार की दोपहर को वन विभाग को दी। वनमंडलाधिकारी एसके जाधव ने बताया कि सूचना पर मौके के लिए वन विभाग के अधिकारियों की टीम पहुंच चुकी है। शव का पंचनामा की कार्रवाई पूरी कर पोस्टमार्टम की तैयारी की जा रही है। उन्होंने बताया कि प्रारंभिक तौर पर हथिनी के मौत का कारण आपसी संघर्ष हो सकता है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही हथिनी के मौत का असली कारण सामने आ सकेगा। तीन डॉक्टरों की टीम से पोस्टमार्टम कराया जा रहा है।

जिले में हाथी की तीसरी मौत
प्रदेश के घोर हाथी प्रभावित जिले में शामिल जशपुर में इस साल हाथियों के मौत की यह तीसरी घटना है। इससे पहले अप्रैल माह में तपकरा वनपरिक्षेत्र के झिलीबेरना गांव में करंट की चपेट में आने से एक नर हाथी की मौत हो गई थी। मामले में वन विभाग ने आरोपी ग्रामीण के खिलाफ वन्य प्राणी सुरक्षा अधिनियम और विद्युत विभाग ने विद्युत अधिनियम के तहत अपराध दर्ज कर गिरफ्तार किया था। मार्च में कुनकुरी परिक्षेत्र के बालालोंगरी गांव में एक गर्भवती हथिनी की मौत हुई थी। प्रारंभिक तौर पर इस हथिनी की मौत जहर से होने का अनुमान लगाया गया था। लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट में इसकी पुष्टि नहीं हो पाई थी।

पीएम रिपोर्ट से पता चलेगा मौत का कारण
"कुनकुरी वनपरिक्षेत्र के अंबाटोली में एक मादा हाथी का शव मिला है। मौके पर अधिकारियों की टीम पहुंच चुकी है। 3 डॉक्टरों की टीम से पीएम कराया जा रहा है। पीएम रिपोर्ट से मौत का कारण स्पष्ट हो सकेगा।''
-श्रीकृष्ण जाधव,डीएफओ जशपुर

खबरें और भी हैं...