पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

फिर गई एक की जान:आधी रात को कटहल खाने आया था हाथी,हमले में नेत्रहीन युवक की मौत

जशपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सरायटोली से बरडांड़ किसी काम से गया था, रात में अकेेला लौट रहा था घर
Advertisement
Advertisement

जिले में हाथी का आतंक थमने का नाम नही ले रहा है। नारायणपुर से सटे ग्राम पंचायत बरडांड़ में शुक्रवार की रात 12 बजे हाथी ने नेत्रहीन संजय कोरवा को पटक कर मार डाला। संजय कोरवा अपने घर सरायटोली से बरडांड़ किसी काम से गया था और अकेले रात 12 बजे अपने घर लाैट रहा था। उसी दौरान एक हाथी जंगल से निकल कर सरायटोली होते हुए कटहल खाने बरडांड़ बस्ती की ओर जा रहा था।  संजय कोरवा नेत्रहीन है और उसकी पत्नी भी नेत्रहीन है। संजय एक अच्छा नागपुरी गायक था कई स्कूलों और नागपुरी आर्केस्ट्रा में गाना गा चुका था। संजय अपने घर सरायटोली से बरडांड़ किसी काम से गया था और अकेले रात 12 बजे अपने घर वापस आ रहा था। उसी दौरान एक हाथी जंगल से निकल कर सरायटोली होते हुए कटहल खाने बरडांड़ बस्ती की ओर जा रहा था उसी दौरान संजय का हाथी से आमना सामना हो गया। हाथी ने संजय को पटक-पटक कर मौत के घाट उतार दिया। गांव में हाथी आने की जानकारी रात को ही बादलखोल अभयारण्य की टीम को मिल गई थी। सूचना मिलते ही टीम रात 2 बजे गांव में पहुंची, लेकिन हाथी के हमले से संजय की मौत हाे चुकी थी। मौत की सूचना मिलने के बाद कुनकुरी रेंज के वन विभाग की टीम शनिवार की सुबह मौके पर पहुंच कर आगे की कार्रवाई की। वहीं पुलिस की टीम भी मौके पर पहुंच कर मर्ग कायम कर शव को पीएम के लिए भेज दिया।

पहले भी हाथी से सामना हो चुका था संजय का 
ग्रामीणों ने बताया कि संजय का पहले भी एक बार हाथी से सामना हो चुका था। हाथी से सामना होने पर हाथी ने संजय को अपने सूंड से धक्का मारा था जिससे वह एक गड्ढे में जाकर गिर गया अाैर उसकी जान बच गई थी। लेकिन इस बार हाथी से सामना होने पर किस्मत ने संजय का साथ नहीं दिया और उसकी मौत हो गई। 
हाथी के हमले से इस साल 6 माह में 5 लोगों की मौत, विभाग ने दिया मुआवजा
जनवरी 2020 से लेकर अब तक जिले में हाथी के हमले से 5 लोगों की मौत हो चूकी है। 4 जनवरी को एक छोटे कद के हाथी ने तपकरा क्षेत्र के ग्राम सिकरीमा में घर में घुस कर एक 62 वर्षीय वृद्ध को अपने सूंड से पटक कर मार डाला था। वहीं 19 फरवरी को फरसाबहार विकासखंड के अंकिरा कुछमुंडा निवासी मायाराम लकड़ी चुनने के लिए दंतली जंगल गया हुआ था। जंगल जाने के बाद वृद्ध अपने घर वापस नहीं लौटा था। वृद्ध के वापस नहीं आने पर उसके परिजन उसकी पतासाजी करना शुरु कर दिए थे। लेकिन तीन दिनाें तक ग्रामीण का कुछ पता नहीं चल सका था और तीन दिनाें के बाद ग्रामीण का शव जंगल में मिला था। जिस स्थान में ग्रामीण का शव मिला था उसी स्थान में एक हाथी भी खड़ा था। इसी तरह 1 अप्रैल को नारायणपुर के चारभाटी निवासी लझरु और उसकी पत्नी बुधनी बाई सुबह 8.15 अपने घर से आधा किमी दूर कोसा बॉडी चेटली टोंगरी के पास अपने खेत मे अपने पति के साथ महुआ बीनने गई थी।उसी समय हाथी के सामने आ जाने से हाथी से बचने के लिए बुधनी बाई भाग रही थी। लेकिन हाथी से उसे अपने सूंड से पकड़ लिया था और उसे पटक दिया था। जिससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई थी। इसी तरह शुक्रवार और शनिवार को भी हाथी ने दो ग्रामीणों को मौत के घाट उतार दिया।

दो दिनों में दूसरी घटना
शुक्रवार की सुबह सन्ना थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत महुआ के आश्रित ग्राम गट्टीद्वारी की नईहारी बाई पति रूहिला राम गांव के नजदीक के जंगल में भाजी तोड़ने के लिए गई हुई थी। भाजी तोड़ने के दौरान अचानक एक दंतैल जंगल से निकल कर उसके सामने आ गया। हाथी को सामने देख कर वृद्वा ने भागने की कोशिश की, लेकिन हाथी ने दौड़ा कर सूंड में लपेट लिया और जमीन में पटक कर कुचल दिया था। लेकिन अन्य ग्रामीणों ने मौके पर पहुंच कर हाथी को जंगल की ओर खदेड़ कर वृद्धा को उपचार के लिए सन्ना अस्पताल ले गए थे। लेकिन वहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया था।

मृतक के परिवार को तात्कालिक सहायता राशि दी गई 
"हाथी के हमले से एक नेत्रहीन ग्रामीण की मौत हुई है। घटना की सूचना मिलते ही विभाग की टीम मौके पर पहुंच गई थी। विभाग की ओर से मृतक के परिवार को तात्कालिक सहायता राशि दी गई है।''
-श्रीकृष्ण जाधव, डीएफओ, जशपुर

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज वित्तीय स्थिति में सुधार आएगा। कुछ नया शुरू करने के लिए समय बहुत अनुकूल है। आपकी मेहनत व प्रयास के सार्थक परिणाम सामने आएंगे। विवाह योग्य लोगों के लिए किसी अच्छे रिश्ते संबंधित बातचीत शुर...

और पढ़ें

Advertisement