पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सुविधा:बजट में शामिल होगी हर्रापाठ सोनक्यारी रोड, पर्यटन स्थलों तक सफर होगा आसान

जशपुर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सन्ना रोड पर 5 किलोमीटर लंबी घाटी इसलिए सीसी रोड बनाने के लिए अब फिर से होगा सर्वे

समुद्र तल से 1200 मीटर की ऊंचाई पर बसे पंडरापाठ व सन्ना जैसे मनोरम स्थलों तक पहुंचने वाली सड़क के खराब हिस्से का निर्माण इस वर्ष पूरा हो जाएगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की घोषणा के बाद पीडब्लूडी विभाग ने सड़क का निर्माण करने के लिए बजट में शामिल करने का प्रस्ताव भेजा है। बजट में शामिल होने के बाद सड़क बनाने के लिए नए सिरे से सर्वे किया जाएगा।
जशपुर से सन्ना जाने वाली 42 किलोमीटर की सड़क में जशपुर से हर्रापाठ तक चमचमाती सड़क बन चुकी है, पर हर्रापाठ से सोनक्यारी तक 9 किलोमीटर 300 मीटर की सड़क नहीं बन जाने से लोग परेशान हैं। इस 9 किलोमीटर की खराब सड़क पर चलकर लोग काफी थम जाते हैं। इस 9 किलोमीटर के रास्ते में 4 किलोमीटर लंबी घाटी है, जिसमें सिर्फ बोल्डर पत्थर भरे हैं। बरसात हो या सामान्य दिन इस सड़क पर चलना हमेशा जोखिम भरा है। बोल्डर पत्थर वाले इस रास्ते पर जरा गल्ती से वाहन सीधे 80 फीट नीचे खाई में गिर सकते हैं। पूर्व में इस सड़क के निर्माण कार्य की स्वीकृति मिली थी, पर इस सड़क को कागजों में पूरा कर दिया गया था। सड़क का निर्माण इतना घटिया हुआ था कि पहली ही बरसात में सड़क का डामर बह गया। मामले में प्रशासनिक कार्रवाई स्वरूप एक अभियंता, पीडब्लूडी के वरिष्ठ लेखापाल सहित तीन कर्मचारियों को सस्पेंड भी किया था। इसके बाद से यह सड़क अधर में लटका हुआ था। बीते साल दिसंबर के महीने में जब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल दाे दिवसीय जशपुर प्रवास पर आए थे तो विधायक विनय भगत ने इस सड़क को बनाए जाने की मांग की थी। इसपर मुख्यमंत्री ने सड़क बनाए जाने की घोषणा कर दी। यही वजह है कि इस साल बजट में इस सड़क को प्राथमिकता से शामिल किया जा रहा है।
जशपुर की मंडी को भी होगा लाभ - विशेष पिछड़ी जनजाति पहाड़ी कोरवाओं का सबसे बड़ा वर्ग पंड्रापाठ, सुलेसा, चुंदापाठ, हर्रापाठ जैसे क्षेत्र में है। इसके अलावा इन इलाकों में दूध, घी, आलू, नाशपाती, चावल, गेंहू, मिर्च और हरी सब्जियां आती हैं। सन्ना व पंडरापाठ के किसान आलू, मिर्च, तिल, अरहर, मूंगफली, टाउ सहित अन्य उपज को जशपुर की मंडी में पहुंचने के बजाए अंबिकापुर की मंडी की ओर ले जा रहे है। सड़क के बन जाने के बाद यह उत्पाद जशपुर की मंडी में आने शुरू हो जाएंगे।

जिले के हिल स्टेशनों में पहुंचने लगेंगे पर्यटक
9 किलोमीटर के इस जोखिम भरे सड़क के निर्माण के बाद जिले के हिल स्टेशन में पर्यटकों के पहुंचने का सिलसिला शुरू हो जाएगा। जशपुर जिले में देखने लायक जगहों में पंडरापाठ है। यहां सैलानियों के लिए कॉर्टेज का निर्माण भी अधूरा पड़ा है। सड़क बन जाने के लिए बाद इसे भी पूरा कर लिया जाएगा। इस वर्ष प्रदेश भर में सबसे ठंडी जगह के रूप में पंडरापाठ की पहचान हुई। दिसंबर के महीने में यहां का तापमान 1.1 डिग्री पर था। समुद्र तल से 1200 मीटर की उंचाई पर स्थित इस स्थान पर पर्यटक आसानी से पहुंच सकेंगे। यहां पहुंचने के बाद जिले के सबसे खूबसूरत दनगरी जलप्रपात को भी पर्यटक देख पाएंगे। सड़क सुविधा के अभाव में तमाम खूबसूरती समेटे यह पर्यटन स्थल लोगों की पहुंच से दूर हैं।

नए सिरे से होगा सर्वे
"सड़क को बजट में शामिल किया जा रहा है। बजट में शामिल होने के बाद नए सिरे से सर्वे कर इस्टीमेट तैयार कर स्वीकृति के लिए भेजा जाएगा। स्वीकृति के बाद काम शुरू होगा।''
-केपी लहरे, ईई, पीडब्लूडी।

घाट वाले हिस्से में सीसी रोड बनाने की है याेजना
पीडब्लूडी के अधिकारियों ने बताया कि चूंकि इस 9 किलोमीटर की सड़क में अधिकांश हिस्सा घाट का है इसलिए इसे सीसी रोड बनाया जाएगा। दो साल पहले हुए सर्वे में इसकी लागत 12 करोड़ आ रही थी, पर अब सभी निर्माण सामग्रियों व परिवहन के दाम बढ़ चुके हैं। इसलिए मौजूदा स्थिति में इस सड़क के निर्माण की लागत 15 करोड़ से अधिक आ सकती है। पूर्व में जब इस सड़क की डामरवाली सड़क बनाया जाना था तो उस वक्त 17 करोड़ रुपए की लागत लग रही थी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप बहुत ही शांतिपूर्ण तरीके से अपने काम संपन्न करने में सक्षम रहेंगे। सभी का सहयोग रहेगा। सरकारी कार्यों में सफलता मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए सुकून दायक रहेगा। न...

    और पढ़ें