प्रशासन ने भेजी मेडिकल टीम:हाई स्कूल की छात्राएं अचानक हो रही है बेहोश

जशपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मनोरोग विशेषज्ञ के अनुसार ‘साइकोसिस’ के कारण हो रहा ऐसा

जशपुर के बगीचा गर्ल्स हाईस्कूल में ग्यारहवीं में पढ़ने वाली छात्राओं के अचानक बेहोश होने से अन्य स्टूडेंट्स खौफ में है। प्रबंधन के अनुसार बगीचा कन्या हाईस्कूल की 11वीं साइंस में पढ़ने वाली छात्राओं में अजीब लक्षण दिख रहे हैं। कई छात्राएं स्कूल में अजीबो-गरीब हरकतें कर रही हैं।

कक्षा में बैठे-बैठे ही अचानक उनकी तबीयत खराब होती है और वे बेहोश हो जाती हैं। ऐसी कुछ मामले सामने आने के बाद पीड़ित छात्राओं को पास के अस्पताल ले जाकर जांच कराई गई तो सब कुछ सामान्य निकला। लेकिन उसके बाद भी ऐसी घटनाएं होने से आसपास के इलाके में दहशत का माहौल है। अभिभावक अपनी बच्चियों को स्कूल भेजने से डर रहे हैं। कई छात्राएं स्कूल नहीं जा रही है।

इलाज कराने के बजाय अंधविश्वास में फंसे

छात्राओं के बेहोश होने से आसपास के इलाके में मनगढ़ंत कहानियां भी गढ़ी जाने लगी हैं। वे भूत-प्रेत जैसी अंधविश्वास को बढ़ावा देने वाली बातें बोल रहे हैं। डर इतना हावी है कि बगीचा कन्या हाईस्कूल में अगरबत्ती जलाकर पूजा-पाठ करने के बाद ही कक्षाएं लग रही हैं। स्थानीय के अनुसार कुछ दिन पहले स्कूल की छत से गिरकर चपरासी की मौत की घटना को गई थी।

इसी का असर छात्राओं पर पड़ा है जबकि डॉक्टरों का कहना है कि यह मानसिक बीमारी है, जिसमें जो चीज नहीं होती है, उसका भ्रम होने लगता है। इधर, लगातार हो रही घटनाओं के बाद जब मामला आला अफसरों तक पहुंचा।

घटना की जानकारी मिलने पर विकास खण्ड शिक्षा अधिकारी एमआर यादव स्कूल पहुंचे और वहां शिक्षकों से बातचीत कर पूरी जानकारी ली। उन्होंने कहा कि स्कूल में मेडिकल टीम बुलाकर सभी बच्चों के स्वास्थ्य की जांच कराई जाएगी।

साइकोसिस के कारण है छात्राओं को भ्रम: विशेषज्ञ
मनोराेग विशेषज्ञ डॉ अरबार खान व डॉ डीके अग्रवाल ने सेवा दी। डॉ खान ने बताया कि स्क्रीनिंग के दौरान 10 मरीज साइकोसिस से पीड़ित मिले। साइकोसिस एक ऐसी मानसिक समस्या है जिसमें व्यक्ति को भ्रम हो जाता है कि हर कोई उसका कुछ बिगाड़ना चाहता है या लोग उसके बारे में सिर्फ बुरा ही सोचते हैं। इसके चलते उनकी स्थिति अचानक बिगड़ती है और वे बेहोश तक हो जाते हैं।

खबरें और भी हैं...