पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अच्छी पहल:मुखिया की कोरोना से गई है जान तो परिवार को व्यवसाय शुरू करने के लिए मिलेगा ऋण

जशपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ऐसे परिवार जिनके मुखिया की मृत्यु कोविड-19 से होने से जीवनयापन करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। उन्हें आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए सरकार द्वारा अनुसूचित जाति एवं पिछड़ा वर्ग के लिए आशा एवं स्माइल योजना प्रारंभ की है। उक्त योजना में व्यवसाय प्रारंभ करने के लिए अधिकतम 5 लाख रुपए तक का ऋण दिया जाएगा, जिसमें 20 प्रतिशत पूंजीगत अनुदान भी शामिल है।

जिला अंत्यावसायी सहकारी विकास समिति के कार्यपालन अधिकारी ने बताया कि योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक को संबंधित जाति वर्ग का होना चाहिए। आवेदक की उम्र 18 से 50 वर्ष के मध्य होना चाहिए। साथ ही ऐसे व्यक्ति जिसकी आयु 18 से 60 वर्ष के अंदर हो व जिसकी कोविड के कारण मौत हुई हो उसका तत्काल संबंधी आवेदक हो सकता है। आवेदक को संबंधित जिले का मूल निवासी होना आवश्यक है। उसकी पारिवारिक वार्षिक आय शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र में 3 लाख रुपए से अधिक नहीं होना चाहिए। आवेदक को पूर्व में किसी भी शासकीय अथवा अशासकीय संस्था एवं बैंक से ऋण नहीं लेने का शपथ पत्र संलग्न करना अनिवार्य होगा। आवेदक की पात्रता संबंधित जाति, निवास एवं आय प्रमाण पत्र चालू सत्र का हो एवं सक्षम राजस्व अधिकारी या तहसीलदार द्वारा जारी किया गया हो।

यह दस्तावेज करेंगे जमा
आवेदक को कोविड-19 मृत्यु के प्रमाण पत्र के रूप में स्वीकार दस्तावेज पेश करना जरूरी होगा, जिसमें रजिस्टार जन्म तथा मृत्यु या नगरीय निकाय द्वारा जारी प्रमाण पत्र अथवा श्मशान भूमि, कब्रिस्तान में स्थानीय प्राधिकरण द्वारा जारी रसीद मान्य होगा। किसी गांव में मौत होने की स्थिति में सरपंच सचिव द्वारा जारी पत्र भी स्वीकार किया जाएगा। शर्तों का पालन करने वाले आवेदक आवेदन पत्र जिला अंत्यावसायी सहकारी विकास समिति कार्यालय कमरा नंबर 118, कलेक्ट्रोरेट परिसर जशपुर में 24 जून तक में पेश कर सकते हंै।

खबरें और भी हैं...