पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

परेशानी:कोतबा में बिजली की आंख मिचौली से लोगों में आक्रोश

कोतबा9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बिजली की आपूर्ति शत प्रतिशत जरूरी है, लेकिन इस क्षेत्र में बिजली की आपूर्ति नदारत है, जब कोई उपभोक्ता इसकी शिकायत करते हैं तो उन्हें कई तरह की समस्या का हवाला देते हुए बिजली आपूर्ति बाधित होने की बात कही जाती है। जबकि सरकार ने क्षेत्र में हर संभव बिजली आपूर्ति करने के लिए विभाग को हिदायत दी है। पिछले सप्ताह भर से लगातार बिजली की आपूर्ति नगर में बाधित हो रही है। वहीं सुबह और देर शाम बिजली गुल होने से लोगों को काफी परेशानी हो रही है। लोगों ने बताया कि इस बरसात के समय में बिजली बाधित रहने से काफी परेशानी हो रही है। ग्रामीण इलाकों के क्षेत्रों में बिजली व्यवस्था चरमरा गई है, जिससे लोगों को कामकाज में काफी परेशानी हो रही है। जानकारी के अनुसार कोतबा क्षेत्र की बिजली जामझोर सबस्टेशन से सप्लाई होती है । कोतबा से 5 किमी दूरी होने के बावजूद भी व्यवस्था में तत्काल सुधारने की कवायद नहीं होती। ऐसे में विभागीय अधिकारियों के उदासीनता और लापरवाही के कारण हमेशा बिजली की समस्या होती रहती है। जिसका खामियाजा उपभोक्ताओं को चुकानी पड़ती है। महीने भर से बिजली की आंख मिचौली से लोगों का काम प्रभावित हो रहा है। पूरी तरह बिजली नहीं मिलने से लोग परेशान हैं। सोमवार, मंगलवार को भी बिजली दिन भर आती जाती रही। नगरवासियों ने बताया कि जब जब बारिश होती है क्षेत्र की बिजली बाधित हो जाती है। लेकिन अभी एक सप्ताह से बारिश नहीं हुई है फिर भी बिजली की आंख मिचौली बनी हुई है। वहीं शाम होते ही पूरा नगर अंधेरे में डूब जाता है। शाम के समय पावर कट से छात्रों को पढ़ाई करने के अलावा महिलाओं को खाना बनाने में भी परेशानी होती है। लोग विभाग से नियमित बिजली आपूर्ति की मांग कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि शाम होते ही बिजली कट जाती है और रात में भी बिजली का आना-जाना लगा रहता है। अनियमित रूप से आती और जाती है बिजली। बिजली कटौती से लोगों में आक्रोश है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में हैं। आपकी मेहनत और आत्मविश्वास की वजह से सफलता आपके नजदीक रहेगी। सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा तथा आपका उदारवादी रुख आपके लिए सम्मान दायक रहेगा। कोई बड़ा निवेश भी करने के लिए...

और पढ़ें