पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बिजली की अघोषित कटौती की आफत:बिजली की अघोषित कटौती से लोग परेशान

सिंगीबहारएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में ओडिशा और रायगढ़ जिले से लगे हिस्से में तापमान अधिक रहता है। फरसाबहार नागलोक क्षेत्र में एक तरफ गर्मी की धमक तेज हुई है हवाओं ने उमस बढ़ा दिया है। लॉकडाउन से घरों में कैद लोग उमस से परेशान होने लगे हैं, नागलोक क्षेत्र में बिजली की अघोषित कटौती आफत बनकर आई है। न घर में चैन है न बाहर जाने की अनुमति। लोगों के समझ में नहीं आ रहा कि करें तो क्या करें। लोगों ने कहा कि स्थिति यही बनी रही तो लॉकडाउन का उल्लंघन कर लोग घर से बाहर निकलने को मजबूर हो जाएंगे।

पूर्व जनपद सदस्य गोपाल कश्यप ने कहा कि छत्तीसगढ सरप्लस स्टेट होने बाद भी यहां ग्रामीण क्षेत्र के विद्युत उपकेंद्र तपकरा से 24 घंटे बिजली मिलनी चाहिए, लेकिन अघोषित बिजली की कटौती एवं आंख मिचौली कारण 24 घंटे में मात्र 7-8 घंटे ही सिंगीबहार केरसई फीडर में बिजली मिल रही है। जिससे लोग विद्युत से जुड़ी कार्य को भी पूर्ण नही कर पाते हैं । यहां तक कि लोग गर्मी के मौसम में बिजली न होने के वजह से नहाने के लिए नदी ,तालाब, नाला जैसे जगहों पर जाकर नहा रहे हैं जिससे एक जगह पानी जमा होने के वजह से संक्रमण बढ़ने का खतरा बना हुआ है। कश्यप ने बताया कि सिंगीबहार केरसई फीडर में हमेशा बिजली विभाग के अधिकारी कर्मचारियों द्वारा लापरवाही बरता जाता है और विद्युत सप्लाई की लचर व्यवस्था से लोग बेहाल हैं।

हफ्तेभर से नल जल योजना व नेटवर्किंग सिस्टम ठप
सप्ताह भर से बिजली की आंख मिचौली से इन पंचायतो में केरसई ,सिंगीबहार,ऊपरकछार का नल जल योजना ठप पड़ा है जिससे पीने के पानी तक के लिए आम जनता परेशान हैं। जहां घंटों अघोषित बिजली की कटौती से कई कम्पनी के नेटवर्क भी बन्द हो जाते हैं विद्युत की लचर व्यवस्था से नेटवर्क भी फेल हो जाता हैं। जिससे दूरसंचार ठप पड़ जाता है।

खबरें और भी हैं...