पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

पौराणिक स्थल:ईब के तट पर स्थित है गणेश का प्राचीन मंदिर, मान्यता : भगवान राम ने वनगमन के दौरान स्थापित की थी

जशपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पर्यावरणविद,जनप्रतिनिधि और लोगों की मांग:पर्यटन स्थल के रूप में हो इसका भी विकास

5 अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर का भूमिपूजन होगा। ऐसे समय में जशपुर जिला मुख्यालय से करीब 60 किलोमीटर दूर कुनकुरी जनपद के रानीकोंबो गांव से करीब 3 किलोमीटर दूर ईब नदी के तट पर भगवान गणेश की प्राचीन प्रतिमा स्थल को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की मांग होने लगी है। भगवान राम के वनवास का अध्ययन कर रहे विशेषज्ञों का मानना है कि वन जाने के दौरान उन्होंने ही इस गणेश प्रतिमा को गांव में स्थापना की थी। दिल्ली स्थित राम शोध संस्थान में राम वन पथ गमन का अध्ययन हो रहा रहा है। संस्थान के निदेशक डाॅ. राम अवतार शर्मा ने पिछले 40 साल से शाेध में जुटे हैं। उन्होंने शोध में देश में यूपी, छत्तीसगढ़ से लेकर तमिलनाडु तक 249 स्थल चयनित किए हैं, जहां भगवान राम वनवास के दौरान गए थे। संस्थान के निदेशक डॉ. रामअवतार शर्मा का मानना है कि भगवान राम ने वन भ्रमण के दौरान ईब नदी की तट पर प्रतिमा को बनाकर स्थापित की थी। प्रतिमा प्राचीन है, पर अब तक इस पर किसी की नजर नहीं पड़ी है। देख रेख के अभाव में इस प्रतिमा के आसपास अन्य प्राचीन प्रतिमाएं खराब हो रही है।

सरकार के सामने रखेंगे मंदिर का प्रस्ताव: भगत
जशपुर विधायक विनय भगत ने बताया कि राज्य सरकार से मांग कर जल्दी ही इलाके का विकास किया जाएगा। इसे लोग गणेश सरना के नाम से जानते हैं। उरांव जाति में जहां साल के वृक्ष होते हैं, ऐसे पवित्र स्थल को सरना के नाम से जाना जाता है। इलाके के लोग कई पीढ़ियों से इसकी पूजा करते आ रहे हैं।

पर्यावरणविद् बोले ; हर स्तर पर हो प्रयास ताकि धार्मिक स्थल के रूप में क्षेत्र की नई पहचान बने
पर्यावरणविद् रामप्रकाश पांडेय का कहना है कि अगर जनप्रतिनिधि और प्रशासनिक स्तर पर इसके लिए प्रयास करे तो रानीकोंबो गांव धार्मिक पर्यटन के मानचित्र पर आ सकता है। मंदिर प्रतिमा प्राचीन है। उसके आसपास अन्य प्रतिमाएं भी मिली है जो पौराणिक महत्व रखती है। पंडित दीनानाथ त्रिपाठी ने बताया कि गणेश सरना में गणेश चतुर्थी को भगवान गणेश की उपासना एवं पूजा अर्चना करने का विशेष महत्व है। उनसे सारी मनोकामनाएं पूरी होती है। रानीकोंबो की गणेश प्रतिमा एवं उसे भगवान राम द्वारा स्थापित करने मान्यता होने से लोगों की गहरी आस्था इससे जुड़ी है। ग्रामीण अनंत सिंह का कहना है कि संकल्प पूर्वक इस प्रतिमा की आराधना करने से उन्हें चिंताओं से मुक्ति मिलती है।

गांव की सुरक्षा करता है विजय डंका
गांव में गणेश की प्राचीन प्रतिमा के अलावा 18 वीं शताब्दी का एक नगाड़ा भी है, जिसे ग्रामीण विजय डंका के नाम से जानते हैं। इस विजय डंका को इलाके में शासन करने वाले डोम राजाओं ने स्थापित किया था। मान्यता है कि यही विजय डंका राज्य की सुरक्षा किया करता था। इस नगाड़े के पीछे मान्यता है कि बाढ़ आने सहित प्राकृतिक आपदाओं के पूर्वाभास के रूप में यह नगाड़ा बजने लगता है। यह भी बताया जाता है कि इस पुरातात्विक नगाड़े की कई बार चोरी की करने की कोशिश की गई। बाद में प्रशासन के द्वारा यहां मंडप बना दिया गया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- मेष राशि वालों से अनुरोध है कि आज बाहरी गतिविधियों को स्थगित करके घर पर ही अपनी वित्तीय योजनाओं संबंधी कार्यों पर ध्यान केंद्रित रखें। आपके कार्य संपन्न होंगे। घर में भी एक खुशनुमा माहौल बना ...

और पढ़ें