पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

आज डॉक्टर्स डे:डॉक्टर बोले; महामारी के वक्त दोगुनी हो जाती है जिम्मेदारी

जशपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • घर-परिवार छोड़कर कोरोना मरीजों की सेवा में लगे हैं डॉक्टर, जिले में अभी 95 कोरोना मरीजों का चल रहा है इलाज

कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के इस दौर में आज डॉक्टर ही लोगों की जान बचाकर भगवान का काम कर रहे हैं। जशपुर जिले में भी कई ऐसे डॉक्टर हैं, जो शुरू से बाहर से आए लोगों की ट्रेसिंग, सर्विलेंस के काम में लगे थे और अब कोविड-19 अस्पताल व कोविड केयर सेंटर में ड्यूटी कर डॉक्टर होने के साथ मानवता का धर्म भी निभा रहे हैं। वर्तमान में जिले के कोविड-19 अस्पताल में 54 कोरोना पॉजिटिव मरीज भर्ती हैं। उसके अलावा डोंड़काचौरा स्थित कोविड केयर सेंटर में भी 41 लोगों की देखभाल की जा रही है। इनकी सेवा में मेडिकल आफिसर, जूनियर डॉक्टर सहित 30 से अधिक विभागीय स्टाफ ड्यूटी कर रहे हैं।  जिले के डॉक्टरों ने अब तक 5 कोरोना मरीजों को ठीक कर उन्हें नई जिंदगी दी है। आज डॉक्टर्स डे पर ऐसे डॉक्टर जो कोरोना मरीजों के इलाज में लगे हैं, उनसे सुनते हैं कि डॉक्टर होना कितना कठिन है। 

सबको महामारी से बचाना हमारी जिम्मेदारी 
"एक डॉक्टर की पूरी कोशिश रहती है कि मरीज को ठीक करे और हर हाल में उसे स्वस्थ जिंदगी दे। डॉक्टर की अपनी कोई नियमित दिनचर्या कभी नहीं बन पाती है। कोरोना महामारी के वक्त में हमारी जिम्मेदारी कई गुना बढ़ गई है। अभी सिर्फ मरीजों को ठीक करने तक नहीं बल्कि पूरी मानव जाति को इस महामारी से बचाना हमारी जिम्मेदारी बन चुकी है। अभी युद्ध स्तर पर हमारा काम भी चल रहा है। जब बात युद्ध की हो तो दिन और रात की परवाह किसे होती है। ''
-डॉ आरएस पैंकरा, सर्विलेंस आफिसर

इस विषम परिस्थिति में डॉक्टर होने पर है गर्व 
"अभी के इस विषम महामारी के समय में डॉक्टर होना और समाज के लिए सेवा देना  गर्व की बात है। पर इस महामारी के समय अपने आप को एवं जनमानस के स्वास्थ्य को ध्यान में रखना एवं उनको इस संक्रमित बीमारी से बचाए रखना कठिन है। तब भी हम सब मिलकर इस महामारी से न केवल जूझ रहे हैं अपितु कार्य को सफलतापूर्वक संपादित कर रहे हैं। कोरोना मरीजों के साथ अस्पताल में  मरीजों का भी इलाज और उन्हें संक्रमण से बचाना भी हमारी जिम्मेदारी है।''
-डॉ अनुरंजन टोप्पो, आरएमओ, जिला अस्पताल  

डॉक्टर अब एक सैनिक की भावना से कर रहे हैं काम 
"डॉक्टर बनने से लेकर डॉक्टर की जिम्मेदारी निभाना कोई आसान काम नहीं है। कोरोना महामारी के इस दौर में युद्ध में उतरे एक सैनिक की भावना से काम कर रहे हैं। जिस तरह से सरहद पर सैनिक  जान की परवाह ना कर देश की रक्षा के लिए काम करता है, उसी तरह हम स्वयं भी अभी खुद की जान की परवाह ना करते हुए कोरोना मरीजों के इलाज में लगे हैं। हम जानते हैं कि संक्रमण का शिकार हो सकते हैं, पर जान की सोचेंगे तो मानवता खत्म हो जाएगी।''
-डॉ. लक्ष्मीकांत आपट, जिला अस्पताल 

अभी सबकेे प्रति जिम्मेदारी निभाने का है वक्त 
"वैसे तो डॉक्टर को हमेशा आपातकाल के लिए तैयार रहना होता है। पर कोरोना महामारी में अभी सबसे प्रति जिम्मेदारी निभाने का वक्त है। हम अभी कोरोना मरीजों की सेवा में लगे हैं और परिवार से दूर हैं।  यहां से ड्यूटी खत्म होने के 14 दिन बाद तक हम सबसे कटकर अलग रहेंगे। क्योंकि मरीजों को ठीक करने के साथ दूसरों को संक्रमण से बचाना भी हमारी ही जिम्मेदारी है। हर डॉक्टर के लिए यह मानवता की सेवा करने का एक अवसर है।''
-डॉ डीके अग्रवाल, जिला अस्पताल

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज किसी समाज सेवी संस्था अथवा किसी प्रिय मित्र की सहायता में समय व्यतीत होगा। धार्मिक तथा आध्यात्मिक कामों में भी आपकी रुचि रहेगी। युवा वर्ग अपनी मेहनत के अनुरूप शुभ परिणाम हासिल करेंगे। तथा ...

और पढ़ें