कोरोना ने बदला तरीका:कई शिवालयों के कपाट रहे बंद, कहीं सोशल डिस्टेंसिंग के साथ जलाभिषेक

राउरकेलाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना को लेकर जारी सरकारी फरमान का पालन करते हुए राज्य के अन्य हिस्सों की तरह राउरकेला व आसपास समेत पूरे जिले के प्रमुख शिव धाम के कपाट भक्तों के लिए नहीं खुले और पहला सोमवार को शिवालयों में सन्नाटा पसरा रहा।  कुछ स्थानों के शिवालयों में सोशल डिस्टेसिंग के साथ जलाभिषेक किया गया। कोरोना की सरकारी फरमान पर सोमवार के पहला सावन में शिवालयों में संभवत: पहली बार जलाभिषेक नहीं हुआ।   ओडिशा के प्रसिद्ध शैव पीठ वेदव्यास के भगवान चन्द्रशेखर व बलुकेश्वर महादेव मन्दिर के पट बंद रहने से यहां पहुंच कर भी भक्त पूजा नहीं कर पाए,यही हाल घोघड़धाम, तरकेरा शिव मंदिर, बाबा बानेश्वर मंदिर समेत सभी शिवालयों में सोमवार को जलाभिषेक व पूजा अर्चना नहीं हुई।   जलाशयों से कांवर के लिए नहीं उठा सकेंगे जल- घोघड़ धाम व वेदव्यास त्रिवेणी संगम पर भी श्रावणी मेला नहीं लग रहा है,राज्य सरकार की ओर से एस आरसी प्रदीप जेना ने छह जुलाई से शुरू हो रहा पवित्र सावन में कांवर यात्रा पर कोरोना के चलते पाबंदी लगाने का एलान किया। कोरोना संक्रमण रोकने के लिए शिवालयों में जलाभिषेक नहीं करने की घोषणा की।

सोमवार को जिले में मिले 20 कोरोना पॉजिटिव, आई कमी 
सुंदरगढ़ जिले में तीसरे दिन 20 कोरोना पॉजिटिव की पुष्टि के साथ जिले में कोरोना की रफ्तार ब्रेक लगा। वैसे तो जिले कोरोना का कहर जारी है,लेकिन  तीसरे दिन थोड़ी राहत मिली, क्योंकि कोरोना का विस्फोटक थोड़ा थमा। शनिवार 36, रविवार 66 व सोमवार 20 कोरोना पॉजिटिव के नए केस से मामूली राहत मिली है। साथ तीन दिनों में 122 कोरोना पॉजिटिव के आंकड़े ने जिलावासियों चिंता बढ़ा दी। साथ ही जिले में कोरोना संक्रमण का आंकड़ा 342 हो गया है। सोमवार को राउरकेला व आसपास के लिए राहत मिली। तीसरे दिन 20 मामलों में राउरकेला से कोई नया मामला नहीं है। जिले में कोरोना के 342 केस में 181 रिकवर,160 एक्टिव व एक डेथ है।  

खबरें और भी हैं...