अफवाह:सूचना मिली, चाकू अड़ाकर उठा ले गए पुलिस पहुंची तो घर में ही मिला युवक

जशपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • विक्षिप्त को घर ले जा रहे थे परिजन, पास खड़े मजदूरों ने समझा अपहरण

पुलिस कर्मी उस समय फौरन दौड़भाग करने लगे, जब मालूम हुआ कि युवक काे चाकू की नोक का डर दिखाकर उसका अपहरण कर कुछ लोग ले गए। एक फोन से मची खलबली के क्रम में पुलिस ने जगह-जगह चौकियों पर सूचना भेजी और खुद भी खोजने में जुट गई। हालांकि जब सच्चाई का पता चला तो पुलिस भी हैरान रह गई कि ऐसे लोग भी समाज में हो सकते हैं, इसका अंदाजा नहीं था।

हालांकि झूठी सूचना देने वाले के खिलाफ पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। शनिवार को सुबह सुबह दुलदुला पुलिस को एक फोन आता है, जिसमें सुनाई देता है कि साहब लोरो घाटी पर हूं मेेरे सामने एक युवक को कुछ लोग उठाकर ले जा रहे हैं, जो लोग उसे उठाकर ले जा रहे हैं उनके हाथ में चाकू भी है, साहब जल्दी आ जाओ, जिसको उठाकर ले जा रहे हैं उसके दोनो हांथ भी बंधे हैं, साहब वो तो पिकअप पर सवार होकर निकल गए अभी कुनकुरी की ओर गए हैं।

इतना सुनकर पुलिस तो क्या कोई भी मदद के लिए आगे आ सकता है। आनन-फानन पुलिस ने जिले भर में इसकी जानकारी दे दी और हर ओर नाकेबंदी करा दी गई जिससे अपहरणकर्ता कहीं से बच न पाएं और जिसका अपहरण हो गया उसको छुड़ाया जा सके। इधर दुलदुला पुलिस जहां से फोन गया वहां पर पहुंच गई। वहां काम कर रहे मजदूरों ने आंखों देखी घटना का वृतांत बताना शुरू किया। मजदूरों के बीच का एक मजदूर ने बताया कि जिसका अपहरण हुआ उसका नाम संतोष साहू है और वह रहने वाला कुनकुरी गडाकटा रांझा डांड़ का है।

हाथ पैर बंधे थे लेकिन अपहरण नहीं
कुनकुरी पुलिस की टीम राजाडाँड़ संतोष के घर पहुंची तो पुलिस ने देखा कि एक युवक को हाथ पैर बांधकर रखा गया है। उंसके घरवालों ने बताया कि यह वही संतोष है जिसके अपहरण की खबर आई है। पुलिस ने जब घर के लोगो से पूछताछ शुरू की तो पता चला कि संतोष विगत कुछ दिनों से मानसिक विक्षिप्तता की स्थिति से गुजर रहा है और उसका उपचार करवाने उसके घरवाले उसे राँची ले गए थे। जशपुर से कुनकुरी ले जाते समय काईकछार के पास संतोष अपने छोटे भाई विद्या सागर का गला दबाने लगा। जिस पर उन्होने गाड़ी रोक दिया और दोनो मिलकर संतोष को कंट्रोल करने में लग गए।

खबरें और भी हैं...