माह ए रमजान / मानव जाति को प्रेम, भाईचारे और इंसानियत का संदेश दे रहा रमजान का महीना, 24 तक रखेंगे रोजा

The month of Ramadan, giving the message of love, brotherhood and humanity to mankind, will keep Rosa till 24
X
The month of Ramadan, giving the message of love, brotherhood and humanity to mankind, will keep Rosa till 24

दैनिक भास्कर

May 07, 2020, 06:20 AM IST

जशपुर. मुस्लिम समुदाय इन दिनों माह ए रमजान में राेजा रखा रहे हैं।। धर्म के सभी लोग कुरान की नमाज अदा कर देश, धर्म की सलामत रहने की दुआ मांग रहे है। अंजुमन इस्लामिया जामा मस्जिद बिलाईटांगर के सचिव रेहान कादरी ने बताया कि 25 अप्रैल से रोजे की शुरुआात हो गई थी। 24 मई तक रोजे का आयोजन किया जाएगा,जिसके बाद चांद देखकर ईद का त्याेहार मनाया जाएगा। उन्होंने बताया कि मुस्लिम समुदाय के लोग इन दिनों कुरान के एक पारा की हर रोज नमाज अदा करते हैं। यह सिलसिला पूरे तीस दिनों तक जारी रहेगा। उन्होंने बताया कि सुबह सूर्य उगने से पहले ही रोजे की शुरुआात हो जाती है, जिसमें मुस्लिम समुदाय के लोग सूर्य ढलने से पहले तक किसी प्रकार का अन्न, जल ग्रहण नहीं करते। उनका कहना था कि रमजान का महीना खुद को खुदा की राह मे समर्पित कर देने का प्रतीक है। इस समय खुदा अपने बंदों पर रहमत एवं बरकतो की बारिश करते है। उनका कहना था कि समूची मानव जाति को प्रेम भाईचारे और इंसानियत का संदेश भी रमजान का महीना देता है।
अंजुमन इस्लामिया जामा मस्जिद बिलाईटांगर के सचिव रेहान कादरी ने बताया कि रमजान के महीना में रोजा हर मुसलमान का फर्ज है, चाहे वो गरीब हो या अमीर, रमजान औरो की तकलीफ समझने का जज्बा देता है। उनका कहना था कि अमीर आदमी जो हमेशा अच्छा खाता पीता है और रमजान में अल्लाह के हुक्म को मानते हुए रोजा रखता है, तो उसे भूख व प्यास का अहसास होता है।
बुराईयों से बचाता रोजा
इस्लामिक जामा मस्जिद के सचिव रेहान कादरी ने बताया कि प्रत्येक इंसान में उसकी तालीम सदगुणों से भरी होनी चाहिए, जिससे वह धर्मों का समान आदर करते हुए जीवों पर रहम कर सके। इंसान को सबसे पहले तालीम हासिल करनी चाहिए। तभी वह तरक्की कर सकता है, तालीम चाहे इस्लामी हो या दुनिया की कोई भी इंसान की अव्वल जरूरत है। तालीम इंसान को झूठ आदि से दूर रखती है। तालीम ही इंसान को रहमदिली,सब्र नियंत्रण व गंदी सोच से बचाती है। केवल पूरे दिन भूखा रहने का नाम ही रोजा नहीं है,बल्कि रोजा शरीर एवं जुबान से होने वाले हर गुनाह से इंसान को बचाता है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना