शाम को बदला मौसम:100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चली हवा, बारिश के साथ ओले भी गिरे, खंंभे गिरने से बिजली गुल

जशपुरनगर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बुधवार की शाम 4 बजे से मौसम का मिजाज अचानक बदल गया। आसमान में घने काले बादलों के बीच तेज हवाएं चलनी शुरू हुईं। इस दौरान बारिश भी शुरू हो गई। उत्तर दक्षिण हवा की रफ्तार 100 किमी प्रतिघंटा से अधिक थी। शुरुआत में बारिश के साथ हवा की दिशा उत्तर दक्षिण रही फिर तेज हवाओं ने रूख बदल लिया। पश्चिम पूर्वी हवा के तेज थपेड़ों के साथ बारिश से शहर दहल उठा। हालांकि देर शाम तक कहीं से कोई बुरी खबर नहीं आई। इस बारिश के बाद शहर का नजारा बदला हुआ नजर आया। शहर के मेन रोड से लेकर हर गली-मोहल्ले की सड़क पर पेड़ की टहनियां टूटकर गिरी हुई मिली। इससे आवागमन प्रभावित रहा। शाम 4 बजे अचानक तेज हवाओं के चलने से अफरा-तफरी मच गई, जो लोग सड़क पर थे, उन्हें दौड़कर सुरक्षित जगहों पर जाते हुए देखा गया। हवा की रफ्तार इतनी ज्यादा थी कि दुकान के बाहर रखे सामान उड़कर सड़क पर दूर बिखर गए। कई दुकानदारों ने झटपट सामान को अंदर किया।

तेज हवाओं के साथ हो रही बारिश के दौरान लोगों को अपनी दुकानों के शटर भी गिराने पड़ गए। हवा की रफ्तार ज्यादा होने से हाइवे पर वाहनों की रफ्तार भी थम गई थी। वाहन चालकों को सड़क पर आगे का रास्ता नहीं दिख रहा था ऊपर से पेड़ के अचानक गिरने का खतरा था। अधिकांश वाहन चालकों ने पेड़ों से दूर अपने वाहन को सड़क किनारे हेड लाइट जलाकर खड़े कर दिए थे। तेज हवाओं के साथ बारिश की बूंदों के बीच ओले भी गिर रहे थे। वाहनों के सीसे पर ओले पत्थर फेंकने की तरह टकरा रहे थे।

करीब आधे घंटे तक तेज हवाओं के साथ बारिश का सिलसिला चला और फिर आधे घंटे और बारिश हुई। एक घंटे बाद मौसम सामान्य हो गया।

सड़क पर बिछ गई पत्तियां व टहनियां
आंधी बारिश के बाद शहर की लगभग सभी सड़कों पर पेड़ों की पत्तियां व टूटी हुई टहनियां के टुकड़े बिखरे हुए मिले। सड़क पर कचरे के ढेर जमा हुए थे। गौरवपथ के डिवाइडर की रेलिंग में भी पेड़ों की टहनियां फंसी हुई दिखी।

4 टीमें सुधार करने में जुटीं
शहर के सन्ना रोड पर तार टूटने व खंभा गिरने की खबर है। इसके अलावा आरईएस ऑफिस के पास बिजली तार के ऊपर पेड़ गिरा है। कॉलेज रोड में सीआरपीएफ कैंप के भीतर पेड़ गिरने से बिजली के तार टूटे हैं। एसपी ऑफिस के सामने बिजली के तार टूटकर बिखर गए हैं। यहां भी खंभा टूटा है। कल्याण आश्रम रोड व जिला अस्पताल के पास बिजली के तार पर पेड़ गिरने से तार टूटे हैं।

जेईई दिनेश त्रिपाठी ने बताया कि तार टूटने व खंभा गिरने की प्रारंभिक सूचनाएं हैं। शहर के अन्य इलाकों से भी तार टूटने की सूचना मिल रही है। विभाग की 4 टीमें बनाई हैं जो रातभर में सभी इलाकों में सुधार कार्य में जुटेगी। करीब छह घंटे तक पूरे शहर की बिजली चालू करना मुश्किल है। सभी इलाकों में विजिट व सूचना के बाद ही बिजली निर्धारित इलाकों की बिजली बंद कर पूरे शहर की बिजली चालू की जाएगी। व्यवस्था में सुधार करने वक्त लगेगा ।

सड़कों पर आवागम बाधित
तेज हवाओं के कारण शहर की मुख्य सड़कों पर भी आवागमन प्रभावित दिखा। बिरसामुुंडा चौक पर बिजली के तार पर पेड़ की टहनी लटकती हुई दिखी। इसी तरह बीएसएनएल आफिस के बाउंड्रीवॉल के भीतर का पेड़ गिर गया। रणजीता तिराहा के पास पेड़ों की टहनियां सड़क पर गिरी, जिससे आवागमन प्रभावित रहा।

हालांकि कुछ ही देर में आसपास के लोग टहनियां को उठाकर ले गए। वन विभाग के डिवीजन कार्यालय के बाजू गली में पेड़ की टहनी गिरने से सड़क पर चारपहिया वाहनों का आना-जाना बंद रहा। डीएफओ बंगला के सामने पेड़ गिरने से दोपहिया वाहनों का गुजरना भी मुश्किल रहा। कल्याण आश्रम रोड और जिला अस्पताल परिसर में भी पेड़ गिरे हैं। जिला अस्पताल परिसर में दोपहिया वाहनों की पार्किंग के ऊपर पेड़ गिरने से कई वाहन क्षतिग्रस्त हुए हैं।

खबरें और भी हैं...