हाथों को नहीं होगा नुकसान / पनचक्की में महिलाएं रोजाना बना रहीं 60 लीटर हर्बल सैनिटाइजर

Women making 60 liters of herbal sanitizer daily in water mill
X
Women making 60 liters of herbal sanitizer daily in water mill

  • अब हर्बल महुआ सैनिटाइजर से जिले को मिल रही नई पहचान

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

जशपुर. शहर से लगे पनचक्की में हर्बल महुआ सैनिटाइजर का उत्पादन शुरू हो गया है। युवा वैज्ञानिक समर्थ जैन की देखरेख में वन विभाग महिला स्व सहायता समूहों के जरिए इसका निर्माण करा रही है। 
वर्तमान में यहां प्रतिदिन 60 लीटर सैनिटाइजर का प्रॉडक्शन हो रहा है। विभाग ने प्रतिदिन 300 से 500 लीटर सैनेटाइजर तैयार करने का लक्ष्य रखा है। विश्व जैव विविधता दिवस पर शुक्रवार को हर्बल सैनिटाइजर के प्लांट के उद्घाटन कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जशपुर विधायक विनय भगत थे। विशिष्ट अतिथि  कलेक्टर निलेशकुमार महादेव क्षीरसागर, एसपी शंकरलाल बघेल, सीआरपीएफ 81 बटालियन के कमांडेंट अनिल कुमार प्रसाद, डीएफओ श्रीकृष्ण जाधव उपस्थित थे। 
केमिकल फ्री सैनिटाइजर, इससे हाथों को नुकसान नहीं 
डीएफओ जाधव श्रीकृष्ण ने बताया कि हर्बल सैनिटाइजर का उपयोग जशपुर सहित प्रदेश के लोग भी कम कीमत पर कर सकेंगेें। अभी इस सैनिटाइजर को ड्रग का लाइसेंस मिला है। कुछ और लाइसेंस लेने की प्रक्रिया चल रही है। उन्होंने कहा कि महिलाएं तीन शिफ्टों में कार्य कर रही हैं और प्रतिदिन 60 लीटर सैनिटाइजर बना रही है। आगामी दिनों में हमारा प्रयास रहेगा कि प्रतिदिन 300-500 लीटर तैयार करके लोगों तक इसका लाभ पहुंचाएंगे।
सभी ब्लॉकों में कराया जाएगा इसका निर्माण 
कलेक्टर निलेश कुमार ने कहा कि आज महुआ से हर्बल सैनिटाइजर बनाना ना सिर्फ जिला बल्कि पूरे प्रदेश व देश के लिए गौरव की बात है। बिना किसी कैमिकल के महुआ से सैनिटाइजर बनाना अपने आप में अद्भुत कल्पना थी। इसमें हम सफल हुए हैं। यह सैनिटाइजर केमिकल मुक्त 100 प्रतिशत हर्बल है। आगामी कुछ दिनों में जिले के सन्ना, कुनकुरी, पत्थलगांव, बगीचा सहित अन्य जगहों पर भी निर्माण कराया जाएगा।  महिलाओं को जोड़कर महुआ कैटल बनाने की भी योजना बनाई जा रही है।  

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना