कोरोना त्रासदी:10 की मौत, 388 संक्रमित, गलत जानकारी दे रहे हैं सेंटरों में, 184 मरीजों का पता नहीं

रायगढ़6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मंगलवार को रामनिवास टॉकीज रोड पर ऐसी लगी भीड़। - Dainik Bhaskar
मंगलवार को रामनिवास टॉकीज रोड पर ऐसी लगी भीड़।
  • जिले में अब तक 357 मौतें, अप्रैल के 13 दिन में ही 28 ने गंवाई जान, फिर भी लापरवाही

जांच कम होने के बावजूद मंगलवार को 388 संक्रमित पाए गए हैं। जिले में एक दिन में सर्वाधिक 10 लोगों की मौत हुई है। अप्रैल में अब तक 2900 से ज्यादा मरीज मिल चुके हैं। स्थित भयावह है लेकिन कुछ लोग अब भी लापरवाही से अपनी और दूसरों की जान जोखिम में डाल रहे हैं। कई ऐसे मरीज हैं जिन्होंने सैंपल देते वक्त गलत पते और कॉन्टैक्ट नंबर लिखवाए, संक्रमित मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग उन तक पहुंच नहीं पा रहा है।

90 रेमडेसिविर इंजेक्शन आए, एक घंटे में ही बिक गए - गंभीर मरीजों के लिए रेमडेसिविर इंजेक्शन कारगर बताया जा रहा है। प्रदेश ही नहीं देश में इसकी डिमांड है और कमी से हाहाकार मचा हुआ है। विशेषज्ञों के मुताबिक एक गंभीर मरीज को 4 से 6 वायल इंजेक्शन लगते हैं। जिले में 90 इंजेक्शन आए और एक घंटे के भीतर ही बिक गए। प्रशासन की पहल पर रेडक्रॉस दवाई दुकान में ये इंजेक्शन मंगाए गए थे। बुधवार को भी 240 वायल और आएंगे। इनमें प्रा‌इवेट अस्पतालों को भी आवंटन किया जाएगा।

आज नहीं दिखेगी ऐसी भीड़

लॉकडाउन के पहले दिन भी बाजार में हर तरफ भीड़ दिखी। लोग अब मास्क लगा रहे हैं लेकिन डिस्टेंसिंग की अनदेखी हुई। जरूरी सामान लेने, कामकाज निपटाने के लिए शहर की ज्यादातर सड़कों पर जाम जैसी स्थिति दिखी। मालधक्का की संकरी सड़क में अक्सर जाम लगता है फिर भी यहां छोटे मालवाहक घुसाए गए। इससे देर तक यहां जाम लगा रहा। इसके साथ ही दुकान और सब्जी बाजार में भी भीड़ दिखी। बुधवार से लॉकडाउन है, स्वास्थ्य विभाग को उम्मीद है कि लॉकडाउन से संक्रमण की चेन टूटेगी।

खबरें और भी हैं...