हादसों पर माथापच्ची:हाईवे पर खतरे वाले 11 स्पॉट, दिल्ली की टीम बताएगी सुरक्षा के उपाय

रायगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

लगातार बढ़ रहे हादसों का ऑडिट करने सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर गठित टीम के सदस्य जल्द ही जिले में हाईवे का निरीक्षण करेंगे। इससे पहले ट्रैफिक पुलिस, पीडब्ल्यूडी और नेशनल हाईवे के अफसर जिले के 11 ब्लैक स्पॉट में सुरक्षा इंतजाम सुनिश्चित करेंगे। यातायात पुलिस लोगों को जागरूक करने के साथ ही हाईवे पर गश्त लगाकर कार्रवाई कर रही है। यातायात पुलिस ने एनएचआई और पीडब्ल्यूडी का व्यवस्था ठीक कराने पत्र लिखा है।

रायगढ़-सराईपाली, रेंगालपाली-बिलासपुर हाईवे, रायगढ़-पत्थलगांव रोड पर हादसे ज्यादा होते हैं। अफसरों के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर बने दल के लोग जल्द ही जिले में आएंगे। ये टीम सड़क पर हादसों की वजह और उनके उपाय ढूंढेगी। विभाग के मुताबिक जनवरी से मई के बीच दो साल के आंकड़े देखें तो हादसों में कमी आई है। ओवरस्पीड, ओवरटेक, नशे में गाड़ी चलाने, हाईवे पर बिना हेल्मेट बाइक चलाने वालों पर कार्रवाई की जा रही है। कुछ लोगों पर कोर्ट से भारी जुर्माना और लाइसेंस निरस्त करने जैसी कार्रवाई की जा रही है। हुए हैं। '

जिले में 11 ब्लैक स्पॉट, जहां हादसे ज्यादा
यातायात विभाग ने शहर के भीतर, पीडब्ल्यूडी, नेशनल हाईवे के अधीन सड़कों में 11 स्थान चिन्हित किए हैं। इनमें कोड़ातराई, नेतनागर, लाखा, खरसिया, छातामुड़ा चौक, पतरापाली, ढिमरापुर चौक हैं। ट्रैफिक विभाग ने लोक निर्माण विभाग, राष्ट्रीय राजमार्ग विभाग को इन ब्लैक स्पॉट एरिया में स्ट्रिप, क्रॉस बेरियर, संकेतक, चेतावनी बोर्ड, कैट्स आई, रोड मेकिंग व अन्य सुधारात्मक उपाय और लाइट की व्यवस्था करने के लिए कहा है।

बेजा पार्किंग से हुए अधिकांश हादसे
यातायात विभाग के मुताबिक जनवरी से मई तक हुए हादसों में कई हादसे खड़े वाहनों से टक्कर के कारण हुए हैं। अंधेरे के कारण खड़े वाहनों से टक्कर में कई जानें गई हैं। ऐसी जगहों पर निगरानी की जा रही है। ओवर स्पीड के 535 मामले दर्ज किए गए हैं जबकि पिछले साल यह 125 थे। बिना सीट बेल्ट के हाईवे पर कार चलाने वालों पर भी कार्रवाई की गई है। 2021 में 46 लोगों पर कार्रवाई की गई थी। इस साल जनवरी से अब तक 446 कार चालकों पर कार्रवाई की गई है।

खबरें और भी हैं...