पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना त्रासदी:24 घंटे, 31 मौतें, 1142 संक्रमित; बाजार बंद, लोग घरों में फिर भी कोरोना संक्रमण की दर 31%

रायगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • संक्रमितों में अचानक बढ़ रहा है वायरल लोड, 31 में तीन की मौत अस्पताल आने से पहले

बुधवार को 1142 संक्रमित मिले। मौत का आंकड़ा डरावना है। कोविड-19 वायरस ने पिछले 24 घंटे में 31 लोगों की जान ले ली। लॉकडाउन की कड़ी सख्ती के बावजूद न तो संक्रमण के मामले कम हो रहे हैं और ना ही मौत की रफ्तार घटी है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी बुलेटिन के मुताबिक 31 में सबसे ज्यादा 16 लोगों की मौत 200 बेड मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में हुई है।

पॉजिटिविटी रेट यानि संक्रमण की दर 31 फीसदी है। 3707 लोगों की जांच में 1142 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं। सबसे ज्यादा मरीज रायगढ़ शहर से 224 लोग संक्रमित पाए गए हैं। लोइंग में 157 पॉजिटिव मरीज मिले हैं। लॉकडाउन में मरीजों की संख्या बढ़ने की बात पर सीएमएचओ डॉ एसएन केशरी ने कहा कि लॉकडाउन लगने से पहले ही संक्रमण फैल चुका था। लोगों लक्षण होने के बाद भी लोग घरों से निकलते थे और जांच नहीं करा रहे थे। अब लक्षण दिखता है तो लोग जांच करा रहे हैं पॉजिटिव मरीजों की संख्या भी बढ़ती जा रही है। जिस रफ्तार में संक्रमण फैल रहा है, यह पिछले सारे आंकड़े और स्टडी को फेल किया है।

मजबूरी, लेकिन तस्वीर हिम्मत बंधाने वाली
मेकाहारा में डॉक्टर्स और स्टाफ सूझबूझ से काम कर रहे हैं। यहां तबीयत खराब होने पर कई लोग कैजुअल्टी में आते हैं। बुधवार को कुछ ऐसे लोग आए जिन्हें सांस लेने में दिक्कत थी। डॉक्टर व स्टाफ ने जांच की लेकिन रिपोर्ट का इंतजार नहीं किया। तुरंत लोगों को बाहर बैठाकर ऑक्सीजन दिया गया। कैजुअल्टी के प्रभारी डॉ लकड़ा ने बताया कि अब यहां पर बाहरी शेड में भी बेड लगाया जा रहा है। वहां मरीज का सैंपल लेते हैं और जब तक कोरोना रिपोर्ट नहीं आ जाती उन्हें बाहर रखा जाता है ताकि दूसरे मरीज संक्रमित न हों। कोरोना रिपोर्ट आने तक इंतजार नहीं करते, सांस लेने में दिक्कत होने पर तुरंत ऑक्सीजन लगाते हैं। लक्षण दिखने पर मरीजों को आइसोलेशन वार्ड में भेजा जाता है।

खबरें और भी हैं...