कंप्यूटर ऑपरेटर से जमीन के नाम पर धोखाधड़ी:सौदा कर ले लिए 9 लाख, अब न प्लाट दे रहा, ना पैसे, जुर्म दर्ज

रायगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दो साल पहले सौदा कर खरीदार से 9 लाख रुपए लेने और फिर मुकर जाने की शिकायत पर कोतवाली पुलिस ने जमीन के मालिक पर धारा 420 के तहत धोखाधड़ी का अपराध दर्ज कर किया है। पुलिस ने आरोपी की जल्द गिरफ्तारी की बात कही है।

कोतवाली से मिली जानकारी के मुताबिक चंद्रमणि मेहर एक प्रेस में कंप्यूटर ऑपरेटर और डिजाइनर है। 28 नवंबर को उन्होंने आवेदन देकर बाताय कि घर बनाने के लिए वर्षों तक जोड़े गए पैसों से वह जमीन खरीदना चाहता था। इंदिरानगर रोड की किराना दुकान संचालक कपूरचंद्र अग्रवाल से इस संबंध में बात हुई तो उन्होंने बैकुंठपुर बावलीकुआं के आर्यन कुमार नंदी नामक युवक की जमीन के विषय में बताया।

आर्यन का रियापारा में 2060 वर्गफीट का प्लाट है। उक्त प्लाट का रेट आर्यन ने 750 रुपए प्रति वर्गफीट बताया। कपूरचंद्र की उपस्थिति में मोलभाव हुआ और 710 रुपए के भाव पर 14 लाख 62 हजार 600 रुपए में सौदा हुआ । डाउन पेमेंट के रूप में आर्यन नंदी ने चंद्रमणि से 7 लाख रुपए मांगे। बाकी पैसे लोन लेकर देने के लिए कहा । सौदे के दौरान मौके पर ही लिखा पढ़ी के बाद 1 लाख रुपए नकद दिए।

6 लाख का इंतजाम करने साथ में आधारकार्ड , पेनकार्ड लाने के लिए कहा और बोला, जब कहें तब रजिस्ट्री करा दूंगा। चंद्रमणि ने 17 अक्टूबर 2019 को चेक के माध्यम से 4 लाख एवं 20 अक्टूबर को 3 लाख का सेल्फ चेक दिया। इसके बाद पारिवारिक जरूरत बताकर आर्यन ने दो लाख रुपए नकद यह कह कर ले लिए कि रजिस्ट्री के दिन ये दो लाख रुपए लौटा देगा । रुपयों के लेनदेन की बाकायदा लिखा पढ़ी की गई है।

15 नवंबर 2019 के पहले रजिस्ट्री कराने की बात तय हुई उसके बाद जब भी रजिस्ट्री डेट आने पर कुछ कारण बताकर आर्यन टालता गया। आर्यन कुमार नंदी ने रजिस्ट्री नहीं होने पर 1 लाख रुपए ब्याज के साथ दी गई पूरी राशि लौटाने की बात कही, ऐसा स्टाम्प पर लिख कर भी दिया गया । इसके बाद कपूरचंद अग्रवाल के जरिए और मैसेज व फोन पर आर्यन से बात हुई। वह कभी किसी परिजन के बीमार होने तो कभी कोरोना का डर बताकर रजिस्ट्री टालता रहा। अब वह कह रहा है कि न तो रुपए लौटा पाएगा और ना ही जमीन की रजिस्ट्री कराएगा, जो कर सकते हो, कर लो। चंद्रमणि ने बताया कि आर्यन ने उससे कुल 9 लाख 5 हजार रुपए लिए।

खबरें और भी हैं...