पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गर्मी से पहले सूखे डेम:केलो डेम में जलभराव 60% पर जर्जर हैं नहरें; रबी की सिंचाई के लिए पानी की किल्लत, किंकारी में 3 और केडार डेम में 31% है भराव

रायगढ़11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
केलो डेम में अभी 60 प्रतिशत पानी मौजूद है। - Dainik Bhaskar
केलो डेम में अभी 60 प्रतिशत पानी मौजूद है।

गर्मी की शुरुआत में ही जलाशय 30 प्रतिशत से अधिक सूख चुके हैं। केलो को छोड़ छोटे और मध्यम स्तर के जलाशय पूरी तरह सूख चुके हैं। इस दौरान किसानों को रबी की फसल के लिए सबसे ज्यादा पानी की आवश्यकता होती है। अभी जलाशयों में इतना पानी ही नहीं बचा है कि वे किसानों के लिए दे सके।

अप्रैल के पहले ही पखवाड़े में डेम में जलभराव की स्थिति चिंताजनक है। केडार, पुटका, किंकारी, खम्हार पाकुट जैसे जिले के चार मुख्य बांधों में अब 30 प्रतिशत से भी कम पानी रह गया है। केलो डेम की स्थिति दूसरों जलाशयों से बेहतर है, यहां 60 प्रतिशत से अधिक जल शेष है। सबसे ज्यादा खराब स्थिति तो 135 माइनर तालाबों की है, जो पूरी तरह से सूख चुके हैं। विभाग ने इसे सूखा घोषित कर दिया है। यह हाल गर्मी की शुरुआत में है। शहर व गांव के तालाब भी सूख चुके हैं। पेयजल व सूखे तालाबों को भरने का इकलौता विकल्प बांध है।

ग्रामीण कर रहे पानी के लिए फरियाद
बांधों के गेट बंद हैं। महानदी और मांड समेत केलो नदी सूख गई है। अनेक गांवों के लोगों की निस्तारी बांध के पानी से होती है। कुछ दिन पहले ही जलसंसाधन के दफ्तर में किंकारी क्षेत्र के लोगों ने नहर में पानी छोड़ने की मांग की थी लेकिन जलाशय में पानी 3% शेष है।

नहरों की लाइनिंग टूटी खेतों तक नहीं पहुंचता पानी
1 लाख 79 हजार 475 एकड़ खेती भूमि को इन्हीं बांधों से पानी मिलता है। जिले में रबी फसल के लिए 2 लाख 23 हजार एकड़ सिंचित भूमि है। लेकिन समय से पहले सूख जाने की वजह से जलाशयों में इतना पानी नहीं है कि उन्हें नहर के जरिए खेतों तक पहुंचाया जा सके।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज मार्केटिंग अथवा मीडिया से संबंधित कोई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, जो आपकी आर्थिक स्थिति के लिए बहुत उपयोगी साबित होगी। किसी भी फोन कॉल को नजरअंदाज ना करें। आपके अधिकतर काम सहज और आरामद...

    और पढ़ें