पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पचरी निर्माण घोटाला:आयुक्त बोले: ठेकेदार ईई, एई एसई सभी दोषी, होगी कार्रवाई

रायगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जांच कर आरोपियों पर एफआईआर की मांग कर रहा विपक्षी दल

वार्ड नंबर 41 में हुए पचरी निर्माण घोटाले मामले में जांच पूरी हो गई है। ईई, ठेकेदार और तकनीकी विभाग के कुछ कर्मचारियों पर प्रशासनिक कार्रवाई के लिए आयुक्त पत्र लिख रहे हैं। दूसरी ओर निगम सरकार सहित विपक्षी दल के नेता भी लगातार जांच कर आरोपियों के खिलाफ एफआईआर करने की मांग कर रहे हैं। निगम आयुक्त आशुतोष पांडेय ने वार्ड क्रमांक 41 में पचरी निर्माण में गड़बड़ी मिलने पर ठेकेदार संजय अग्रवाल, ईई अजीत तिग्गा और संबंधित सब इंजीनियर को 8 जनवरी को नोटिस जारी की थी। लगातार टाल-मटोली के बाद निगम आयुक्त ने कार्रवाई को लेकर अपनी ओर से प्रक्रिया शुरू कर दी है। दरअसल वार्ड नंबर 41 सहदेवपाली वार्ड में पचरी निर्माण के लिए 4 लाख का वर्क ऑर्डर जारी हुआ था। ठेकेदार ने बिना काम किए हुए ही 4 लाख का बिल लगाकर भुगतान ले लिया। इंजीनियर ने भी बिना साइट विजिट किए बिल को क्लियर कर दिया। जब वार्ड पार्षद शांति सिदार द्वारा वार्ड में पचरी निर्माण संबंधी कोई काम नहीं होने की शिकायत आयुक्त से की तो जांच हुई। जांच में पता चला कि कोई काम हुआ ही नहीं है। इसके बाद फिर लगातार ठेकेदार और ईई पर आरोप लगे। सबसे पहले कांग्रेस के एमआईसी सदस्य विकास ठेठवार ने नगरीय प्रशासन मंत्री को पत्र लिखकर कार्रवाई की मांग की। इसके बाद जोगी कांग्रेस के सदस्य ने मामले में कार्रवाई के लिए आयुक्त को ज्ञापन सौंपा था। इसके बाद प्रशासनिक अफसरों की टीम आई और बयान लेकर चली गई। मंगलवार को निगम की नेता प्रतिपक्ष पूनम सोलंकी और वार्ड 41 के पार्षद प्रतिनिधि ने भी आयुक्त को पत्र लिखकर मामले में एफआईआर करने की मांग की।

मैंने मना कर दिया था काम करने से: सब इंजीनियर
सब इंजीनियर ने टीम से बयान में कहा कि उसने काम करने से मना कर दिया था। लेकिन बिल पास होने से पहले फाइल सब इंजीनियर, एई और निगम के ईई सभी के पास गई है। इसलिए अभी भी जांच में सबको बराबर का हकदार माना जा रहा है। हालांकि कुछ लोग कह रहे हैं कि बड़ों पर कार्रवाई की नौबत आए इसलिए निचले स्तर के लोगों पर कार्रवाई हो रही है।

अन्य मामलों में भी शुरू हो सकती है जांच
निगम में ऐसे कई मामले हैं जिनमें इस तरह से भुगतान की शिकायतें हैं। इस मामले में लगातार जनप्रतिनिधियों द्वारा अफसरों को घेरे जाने के बाद अब दूसरे मामलो में भी जनप्रतिनिधि शिकायत करने की बात कह रहे हैं। संबंधित ठेकेदार और ईई को इस मामले में सभी दोषी मान रहे हैं। निगम के एक धड़े का मानना है कि ईई और ठेकेदार ने लगातार मिलीभगत कर इस तरह की धोखाधड़ी की है।

दोषियों पर होगी कार्रवाई
"जांच पूरी हो गई है। मैं कार्रवाई के लिए पत्र लिख रहा हूं जो भी दोषी पाए जा रहे हैं, चाहे वह ईई, एई, एसई, ठेकेदार हों। सभी के विरुद्ध मैं जो भी संभव कार्रवाई हो करुंगा।’’
-आशुतोष पांडेय, निगम आयुक्त

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें