अनदेखी / जिले में कोरोना पॉजिटिव अब तक 10, मुंबई से लौटी युवती संक्रमित

Corona positive so far in district 10, girl returned from Mumbai infected
X
Corona positive so far in district 10, girl returned from Mumbai infected

  • ट्रक में बैठ पूंजीपथरा तक आई, फिर पिकअप से घर पहुंची, पंचायत सचिव को पता चला तो गांव के क्वारेंटाइन सेंटर भेजा
  • ज्यादा श्रमिक सारंगढ़ ब्लाक के, 28 दिनों तक क्वारेंटाइन में रहना होगा

दैनिक भास्कर

May 25, 2020, 05:00 AM IST

रायगढ़. रविवार को लैलूंगा के मुकडेगा क्वारेंटाइन सेंटर में 27 प्रवासी मजदूरों के साथ ठहरी युवती कोरोना पॉजिटिव मिली है। रिपोर्ट आते ही मुकडेगा को कंटेनमेंट एरिया घोषित किया गया। युवती को कोविड-19 अस्पताल में शिफ्ट किया गया है। जिले में अब कोरोना संक्रमितों की संख्या 10 हो गई है। युवती 18 मई को मुंबई से ट्रक में बैठकर पूंजीपथरा पहुंची। पिकअप में लिफ्ट लेकर सीधे गांव जतरा पहुंची। घर जाने के बाद इसे पंचायत सचिव ने पहले गांव के नजदीक खोखरी पारा क्वारेंटाइन सेंटर में चार लोगों के साथ रुकवाया। दो दिनों के बाद 20 मई को युवती को मुकडेगा सेंटर भेजा गया।  
  लैलूंगा ब्लॉक के दो प्रवासी श्रमिकों से जिले में 18 मई को कोरोना की एंट्री हुई थी। धरमजयगढ़ ब्लाक के 6 लैलूंगा के 3 और पुसौर के एक प्रवासी श्रमिक में संक्रमण पाया गया है। यह सभी लोग मुंबई से लौटे हैं। एमसीएच के कोविड-19 हॉस्पिटल में मरीजों की संख्या 11 हो गई है। जशपुर के दुलदुला का एक मरीज भी यहीं भर्ती है। सीएमएचओ डा. एसएन केशरी ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की टीम आज पॉजिटिव मिली युवती की कॉन्टेक्ट हिस्ट्री खंगालने में लगी है। विभाग के अफसर युवती के संपर्क में आए सभी लोगों की जांच की बात कह रही है। उल्लेखनीय है कि खोखरीपारा सेंटर में भी युवती के साथ चार लोग थे। यहां तीन पुरुषों के साथ एक महिला पहले से थी। 20 को युवती को महिला के साथ मुकडेगा भेजा गया था। 
निजी वाहनों से लौटने वालों की भनक नहीं लगती
जानकारी के मुताबिक युवती मुंबई में काम करती थी। 18 मई को इसके लौटने का किसी को पता नहीं चला और यह घर चली गई। युवती को बुखार भी था। कुछ घंटों बाद पंचायत सचिव को इसकी जानकारी मिली तो इसे क्वारेंटाइन सेंटर भेजा गया। हालांकि पंचायत सचिव युवती को सीधे क्वारेंटाइन करने की बात कह रहे हैं। गांव के नजदीक के सेंटर में महिलाओं के लिहाज से सुरक्षा कम थी इसलिए वहां रुकी एक दूसरी महिला के साथ इसे ट्रैक्टर से मुकडेगा क्वारेंटाइन सेंटर भेजा गया। ट्रेन या बस से लौट रहे श्रमिकों की जांच कर क्वारेंटाइन किया जा रहा है लेकिन निजी जुगाड़ से गांव लौट रहे श्रमिकों की भनक गांव में किसी को नहीं लगती। इससे दूसरों के संक्रमित होने का खतरा है। 
जम्मू में फंसे थे, दो ट्रेनों से लौटे 550 प्रवासी श्रमिक 

रविवार को रायगढ़ जम्मू कश्मीर के कटरा से दो श्रमिक स्पेशल ट्रेनें रायगढ़ पहुंचीं। इनमें 550 प्रवासी श्रमिक रायगढ़ लौटे। पहली ट्रेन लुधियाना, नई दिल्ली, झांसी, भोपाल, नागपुर के रास्ते आई। अफसरों के अनुसार सभी मजदूर जम्मू कश्मीर से लौटे हैं। 354 श्रमिकों में ज्यादातर श्रमिक सारंगढ़ ब्लॉक के हैं। मजदूरों के रायगढ़ आने के बाद उन्हें थर्मल स्कैनर से स्कैनिंग करने के बाद रैपिड टेस्ट किया गया। सभी मजदूरों के क्वारेंटाइन में जाने के बाद उनका आरटीपीसीआर टेस्ट भी होगा। रविवार की देर रात कटरा से दूसरी ट्रेन आई, जिससे लगभग 200 मजदूर पहुंचे। मजदूरों की जांच के बाद बसों से ब्लाकवार उनके गांव भेजा गया। 

आज मुम्बई और भरूच से आएंगे मजदूर

सोमवार को मुम्बई और गुजरात के भरूच से ट्रेन रायगढ़ आएंगी। इसकी तैयारियां शुरू कर दी गई है, रविवार को जिले के कुछ मजदूर गुजरात से चाम्पा स्टेशन पहुंचे। गुजरात, महाराष्ट्र जैसे राज्यों में कोरोना संक्रमण का असर ज्यादा है। वहां से मजदूर आ रहे हैं इसे देखते पुलिस और प्रशासन भी एहतियात बरत रहे हैं। स्टेशन पर उतरे मजदूरों को सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए घेरा बनाकर प्लेटफार्म 1, 2 और 3 में रखा गया था। इसके बाद उन्हें मेडिकल टेस्ट करने के बाद बसों से क्वारेंटाइन सेंटरों के लिए भेजा गया। सीएमएचओ डॉ एसएन केसरी ने बताया कि मजदूरों को जांच के बाद 28 दिनों के लिए क्वारेंटाइन में रहना होगा। सोमवार को एक और ट्रेन मजदूरों को लेकर आएगी। इस दौरान यहां शहर के लोगों के आने पर प्रतिबंध होगा।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना