पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जागरूकता नहीं:इंजीनियर समझ नहीं पा रहे सिस्टम, दो माह से रुकी निर्माण अनुमति

रायगढ़11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • लोगों को आसानी हो इसलिए भवन निर्माण अनुज्ञा आवेदन ऑनलाइन किए गए, अब तक सिर्फ 5 इंजीनियर का रजिस्ट्रेशन

भवन निर्माण के अनुमति के लिए अनुज्ञा पत्र अब ऑनलाइन ही जनरेट हो रहे हैं। पहले की तरह ऑफलाइन नहीं लिया जा सकता। 23 दिसंबर से यह सुविधा पूरे प्रदेश में लागू हो चुकी है। इंजीनियर इसके प्रोसेस को समझ नहीं पा रहे हैं। कुछ जगहों पर तकनीकी दिक्कत आ रही है। इन सबका नतीजा यह हुआ कि अभी तक एक भी भवन निर्माण अनुज्ञा यानि अनुमति नहीं मिल सकी है। लोगों को घर बैठे ही सारी सुविधाएं मिल जाए इसके लिए नित-नए अपडेट किए जा रहे हैं। निगम क्षेत्र पहले ही ऑनलाइन हो चुका है। अब इसी कड़ी में टाउन एंड कंट्री प्लानिंग ने भी अपने साइट को ऑनलाइन किया है। 23 दिसंबर से भवन अनुज्ञा प्रमाण पत्र(मकान बनाने से पहले लिया जाने वाला एनओसी) लेने की पूरी प्रक्रिया भी ऑनलाइन की गई। इंजीनियर साइट पर जाकर अपना आईडी-पासवर्ड डालकर अनुज्ञा पत्र जनरेट कर सकते हैं। लेकिन रायगढ़ के इंजीनियर ने बीते दो माह में एक भी अनुज्ञा पत्र जनरेट नहीं कर पाए है। इसके पीछे कारण इंजीनियरों के प्रोसेस समझने में आ रही दिक्कत को बताया जा रहा है। हालत यह है कि साइट पर इंजीनियर अपना रजिस्ट्रेशन भी नहीं करा रहे हैं। बीते 2 माह में अभी तक केवल 5 इंजीनियर ने ही अपना रजिस्ट्रेशन कराया है। दूसरी तरफ एक भी व्यक्ति का आवेदन भवन निर्माण के लिए नहीं आया है। लोग इंजीनियरों के पीछे अनुज्ञा पत्र लेने के लिए चक्कर काट रहे हैं। नया मकान बनाने लोग अनुमति के लिए महीनों इंतजार करते हैं।

27 रजिस्टर्ड इंजीनियर
निगम की भवन शाखा में 27 इंजीनियरों ने अपना पंजीयन कराया है। पंजीकृत इंजीनियर ही लोगों को भवन अनुज्ञा प्रमाण पत्र दिला सकते हैं। इसी तरह जिले में सैकड़ों अन्य इंजीनियर, आर्किटेक्ट और प्लानर मौजूद हैं। इनमें से किसी ने भी वेबसाइट पर अपना रजिस्ट्रेशन नहीं कराया है। इंजीनियर जब तक अपना रजिस्ट्रेशन नहीं कराएंगे। वे दूसरों को भवन अनुज्ञा पत्र नहीं दे पाएंगे, इसलिए रजिस्ट्रेशन जरूरी है।

इस तरह से होगा काम
इंजीनियर को पहले टाउन एंड कंट्री प्लानिंग की वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा। ताकि वे प्री डीसीआर में जाकर जमीन की जानकारी भरकर भवन अनुज्ञा प्रमाण पत्र जनरेट कर सके। इसके लिए उनकी आईडी और पासवर्ड भी जरूरी होगी। जो उन्हें निगम से मिला होगा। इस प्रोसेस को पूरा करने के बाद वे चंद मिनटों में ही किसी भी व्यक्ति को भवन अनुज्ञा प्रमाण पत्र जारी हो जाएगा।

जमीन विक्रेता ले रहे लोगों को झांसे में
निगम क्षेत्र के बाहर बड़ी संख्या में मकान बन रहे हैं। अधिकतर लोग ऐसे हैं जिसे इसकी कोई जानकारी नहीं है। इसमें आर्किटेक्ट और बड़े सिविल इंजीनियर भी शामिल हैं। जिन्हें इस बारे में बिलकुल भी पता नहीं है। वे अभी तक इसी भरोसे में है कि भवन अनुज्ञा प्रमाण पत्र निगम में जाकर आवेदन देने के बाद प्राप्त होगा। जबकि पिछले दो महीनों से नई व्यवस्था लागू है। जो भी लोग नयी जमीन खरीद रहे हैं। उनसे सौदा करने वाले भी यही बात कह रहे हैं। जबकि इस वक्त पूरे जिले से एक भी व्यक्ति ने आवेदन अनुमति के लिए साइट पर नहीं डाला है।

हम तक नहीं आए हैं ऑनलाइन आवेदन
"हमारे पास अभी फिलहाल एक भी आवेदन नहीं पहुंचा है। ऑनलाइन सुविधा काफी आसान है। इससे लोगों को दफ्तरों के चक्कर काटने नहीं पड़ेंगे। जानकारी सही भरे जाने पर एक बार में ही अनुमति मिल जाएगी।''
-आलोक सिंह, सहायक संचालक, टाउन एंड कंट्री प्लानिंग

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां पूर्णतः अनुकूल है। सम्मानजनक स्थितियां बनेंगी। विद्यार्थियों को कैरियर संबंधी किसी समस्या का समाधान मिलने से उत्साह में वृद्धि होगी। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी विजय हासिल...

    और पढ़ें