अनदेखी:कचरा निपटारे का ठेका देकर भूला निगम रिहायश व नदी के पास डंप हो रहा है कूड़ा

रायगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एनजीटी की मनाही और सख्ती के बाद भी रामपुर ट्रेंचिंग ग्राउंड में डंप हो रहा है शहर का कचरा

एनजीटी की सख्ती के बाद भी रामपुर ट्रेंचिंग ग्राउंड में कचरा डंप किया जा रहा है। यह क्षेत्र न केवल रिहायश से लगा हुआ है बल्कि केलो नदी का किनारा है। नगर निगम को ट्रिब्यूनल के आदेश की और कचरा निपटारा करने वाली एजेंसी को नगर निगम की परवाह नहीं है। पर्यावरण संरक्षण मंडल के नोटिस के बाद भी यहां कचरा डंप हो रहा है।

स्वच्छता रैंकिंग में देश में 13वां स्थान हासिल करने वाले शहर बेहाल है। शहर से निकलने वाले कूड़े को नदी किनारे डंप किया जा रहा है। इस कचरे में बड़ी मात्रा प्लास्टिक की है और कचरा जलाया जा रहा है। नगर निगम ने दो करोड़ रुपए का ठेका तो दिया लेकिन कचरे के निपटारे का काम महीनों बाद भी शुरू नहीं हो सका है। सालभर पहले रामपुर की पहाड़ी को पिकनिक स्पॉट बनाने की पहल की गई थी लेकिन यहां गोवर्धनपुर की ओर जाने वाली सड़क के दोनों किनारों पर कचरा का पहाड़ बना है। आसपास के लोगों का रहना मुहाल है।

एनजीटी का आदेश लागू हो तो निगम को हर महीने देना होगा एक लाख का जुर्माना
सामाजिक कार्यकर्ता राजेश त्रिपाठी बताते हैं, 17 जुलाई 2019 को ग्रीन ट्रिब्यूनल ने एक आदेश जारी कर कचरे का निपटारा नहीं किए जाने और नदियों में गंदा पानी डालने को लेकर सख्त आदेश जारी किए हैं। आदेश के मुताबिक 10 लाख की आबादी वाले शहर में ऐसा करने वाले निकाय से 10 लाख रुपए, 5 से 10 लाख की आबादी वाले निकाय से 5 लाख और उससे कम जनसंख्या वाले निकायों से एक लाख रुपए प्रति माह का जुर्माना लिया जाना है। जुर्माना वसूली की जिम्मेदारी पर्यावरण संरक्षण मंडल यानि पोल्यूशन कंट्रोल बोर्ड को दी गई थी। 1 अप्रैल 2020 से जुर्माने की वसूली की जानी थी। इस आदेश के बाद कई निकायों ने कचरा निपटारे का ठेका तो जारी कर दिया लेकिन काम नहीं हो रहा है।

पूरा नहीं हुआ एसटीपी
केलो नदी शहर के भीतर गटर में तब्दील हो गई है। यहां शहरभर के नालों का गंदा पानी आता है। इसके ट्रीटमेंट के लिए सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट बन रहा है लेकिन काम अधूरा है। पाइप लाइन के लिए मरीन ड्राइव खोद दी है लेकिन काम पूरा नहीं हुआ है। नदी पर बने रेलवे ब्रिज के पिलर के नजदीक से गुजर रही पाइपलाइन के लिए रेलवे की अनुमति का तीन महीने तक इंतजार करने के बाद निगम ने अब प्लान बदला है।

नोटिस का जवाब नहीं दिया है नगर निगम ने
हमने एनजीटी के आदेश के परिपालन में नगर निगम को 15 दिन पहले ही रामपुर में कचरा डंपिंग तत्काल बंद करने के लिए नोटिस जारी किया है। डंप कचरे के निपटारे के लिए भी कहा गया है लेकिन अब तक न तो काम शुरू हुआ है और न ही नोटिस का जवाब आया है। हम नगर निगम को फिर नोटिस भेजेंगे।''
-एसके वर्मा, क्षेत्रीय पर्यावरण अधिकारी

खबरें और भी हैं...