पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हत्या का खुलासा:अवैध संबंधों के कारण दोस्त ने मारा था, ढाई महीने बाद मिला शव

रायगढ़6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

ढाई महीने पहले लापता हुए इंसान की लाश ढूंढने के साथ ही पुलिस ने हत्या का खुलासा किया है। हत्या करने वाला उसका दोस्त ही है। मारे गए युवक के आरोपी की परिचित महिला से अवैध संबंध थे। पूछताछ में महिला ने ही दोनों को आखिरी बार साथ देखने की बात कही। निशानदेही पर खाई से बॉडी बरामद की गई और हत्या का मुकदमा दर्ज कर उसे जेल भेजा है।

जानकारी के मुताबिक झारखंड कोडरमा का बैजनाथ साव (37) 3 साल से लैलूंगा के पास रुडुकेला के क्रशर में हाइवा चलाता था। यहीं उसकी दोस्ती सुरेन्द्र रविदास से हुई। युवक सुरेंद्र रविदास के घर में ही किराए से रहने लगा। इस दौरान बैजनाथ का सुरेंद्र रविदास की परिचित महिला से संबंध बन गया। होली के दिन 28 मार्च को सुरेंद्र ने बैजनाथ और महिला को आपत्तिजनक स्थिति में देख लिया। उसने इस पर आपत्ति करते हुए झगड़ा किया। दोनों के बीच विवाद के बाद दूसरे दिन सुरेंद्र ने आसपास के लोगों को बताया कि बैजनाथ झारखंड लौट गया है। करीब दो महीने बाद 19 मई बैजनाथ के परिजन झारखंड से लैलूंगा आए और उसके विषय में पूछताछ की। परिवार ने बताया कि उनका बेटा घर पहुंचा ही नहीं है। सुरेंद्र ने कहा, उसके इसकी जानकारी नहीं है। परिवार ने लैलूंगा पुलिस ने में रिपोर्ट दर्ज कराई। लैलूंगा पुलिस ने जांच शुरू की। पूछताछ में आरोपी ने अपराध कबूल किया। आरोपी ने बताया कि उसने ही हत्या का शव खाई में फेंक दी है। इसके बाद पुलिस ने आरोपी की निशानदेही पर शव को खाई से निकाला और परिजन के सुपुर्द किया। आरोपी के विरुद्ध आईपीसी की धारा 302 के तहत अपराध दर्ज कर जेल भेजा गया।

पत्नी ने कबूल कराया सच
बैजनाथ के परिजन लैलूंगा पहुंच बार-बार अपने बेटे के बारे में पूछताछ कर रहे थे। उसका फोन भी 28 मार्च से बंद था। तभी सुरेंद्र की पत्नी ने कहा कि उसने दोनों को साथ देखा था। वह सुरेंद्र से ही पूछताछ करने लगी तो सुरेंद्र ने बता दिया कि तीन महीने पहले ही उसे मारकर खाई में फेंक चुका है। बैजनाथ के परिजन फिर उसे ढूंढने आए तो सुरेंद्र की पत्नी ने सारी बात बता दी। इसके बाद थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई।

28 मार्च को महिला और बैजनाथ को साथ देखकर सुरेंद्र ने उसे तुरंत गांव छोड़ने के लिए कहा। उसने बैजनाथ से कहा कि वह बाइक से बस स्टैंड तक छोड़ देगा। बाइक पर बिठाकर वह बैजनाथ को तीन किलोमीटर दूर पहाड़ियों पर ले गया। उसने बाइक में रॉड छिपाकर रखी थी। उसने बहाने से बीच रास्ते पर बाइक रोकी। फिर युवक को पीछे से रॉड मारकर खाई में धकेल दिया। इसके बाद वह घर लौट आया। उसने आसपास के लोगों से बताया कि बैजनाथ अपने गांव लौट गया है और अब वहीं काम करेगा।

खबरें और भी हैं...