जिला लॉक:जरूरी हो तो पास या आईकार्ड के साथ निकलिए, शहर चार जोन में बांटा गया

रायगढ़6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लॉकडाउन की तैयारी को लेकर टीवी टॉवर मार्ग पर लगाए गए ड्रम। - Dainik Bhaskar
लॉकडाउन की तैयारी को लेकर टीवी टॉवर मार्ग पर लगाए गए ड्रम।

बुधवार से 22 अप्रैल की रात तक जिले में पूर्ण तालाबंदी यानि लॉकडाउन रहेगा। इससे पहले मंगलवार शाम एसपी ने कोतवाली थाने में जवानों को ब्रीफ किया। बुधवार से शहर की सड़कों पर लगभग 750 जवान तैनात होंगे। शहर चार जोन में बांटा गया है। हर जोन में एक राजपत्रित अधिकारी ड्यूटी पर तैनात होंगे।

मंगलवार शाम पुलिस के साथ ही राजस्व विभाग ने तैयारी की। कोतवाली थाने में शाम 6 बजे के बाद एसपी संतोष सिंह ने जवानों को ब्रीफ किया। जवानों को बताया कि आगे 9 दिनों तक उन्हें किस तरह से अपनी ड्यूटी करना है। एएसपी अभिषेक वर्मा ने बताया कि कोतवाली, कोतरा रोड, चक्रधर नगर और जूट मिल इलाके में 750 जवानों की ड्यूटी शहर के भीतर होगी। एसपी, एएसपी और सीएसपी भी प्वाइंट्स पर जाकर मॉनिटरिंग करेंगे।

32 पिकेट प्वाइंट बने

शहर के भीतर 32 पिकेट प्वाइंट (जहां पुलिस ने बेरिकेड्स लगाए) बनाए गए हैं। इन जगहों पर 3 से 5 जवान तैनात रहेंगे। एमरजेंसी में भी कहीं जाना है तो इन जगहों को पार कर जाना होगा। यहां आपसे बाहर निकलने का कारण पूछा जाएगा। अकेले कोतवाली थाना क्षेत्र में 14 पिकेट प्वाइंट हैं। चक्रधरनगर में 7, जूट मिल में 6 और कोतरा रोड में 5 पिकेट प्वाइंट बनाए गए हैं।

बॉर्डर पर पुलिस जवानों के साथ राजस्व विभाग की टीम

चक्रधरनगर थाना क्षेत्र अंतर्गत आने वाले बार्डर जामगांव और एकताल में बेरिकेड्स बनाए गए हैं। जूट मिल क्षेत्र में कनकतुरा बॉर्डर पर एक बैरियर होगा। यहां पुलिस जवानों के साथ जिला प्रशासन से रेवेन्यू डिपार्टमेंट के लोग होंगे। जिले से बाहर जाने या आने से पहले इन जगहों पर पास दिखाना होगा। इसी तरह ग्रामीण क्षेत्र के बॉर्डर में भी यही व्यवस्था होगी।

लॉकडाउन में विवाह के साथ जरूरी काम और अति आवश्यक ट्रांसपोर्टिंग के लिए जारी होगा ई-पास

लॉकडाउन के दौरान जिले के यात्रियों का पंजीकरण सीजी ई-पास कोविड-19 के मोबाइल एप के जरिए होगा। लेकिन लोग ई-पास मंजूरी के लिए कलेक्टोरेट पहुंच गए। शादी, जरूरी काम, अंत्येष्टि के लिए बाहर जाने वालों का ई-पास जेनरेट किया गया। दूसरे राज्य जाने वालों के लिए आवेदन देना पड़ रहा है।

खबरें और भी हैं...