मरीज परेशान:डायरिया के मरीजों से भरे अस्पताल दो अस्पतालों के बीच भटक रहे हैं

रायगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भीषण गर्मी और उमस के बाद बारिश शुरू होते ही अस्पतालों में डायरिया के मरीज बढ़ गए। निजी और सरकारी अस्पतालों में आने वाले ज्यादातर मरीज उल्टी-दस्त से पीड़ित हैं। केजीएच से मेडिकल कॉलेज अस्पताल शिफ्ट हो चुका है। केजीएच में मेडिसिन, सर्जिकल और बर्न वार्ड रह गए हैं। मेडिसिन वार्ड में भर्ती मरीजों में मौसमी बीमारी वाले मरीज ज्यादा हैं।

यहां-वहां के चक्कर में परेशान होते हैं मरीज: मेडिकल कॉलेज अस्पताल में अभी सारी व्यवस्थाएं नहीं हैं। जिला चिकित्सालय से शिफ्ट होने के बाद भी ब्लड बैंक और टीके यहीं लगते हैं। गायनिक और शिशु रोग विभाग मेडिकल कॉलेज में हैं लेकिन टीके केजीएच में लगते हैं। नवजात को टीका लगवाने यहां लाना पड़ता है। सर्जिकल, बर्न जैसे एमरजेंसी वार्ड अभी भी जिला अस्पताल में चल रहे हैं। सुविधाओं के अभाव में मेडिकल कॉलेज शिफ्ट नहीं किया गया है।

खबरें और भी हैं...