पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जंगल-जंगल आग लगी है:तीन महीने में आगजनी के 400 से अधिक मामले, तबाह हो रहे हैं जंगल

रायगढ़14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सोमवार देर रात उर्दना-सर्किट हाउस मार्ग पर जंगल सागौन के जंगलों में भीषण आग लगी थी। पूरी रात पहाड़ दहकता रहा। वनविभाग ने पहाड़ पर आग लगने की सूचना को हाईटेक किया हुआ है, जीपीएस ट्रैकिंग और सेटेलाइट के जरिए रायपुर से सूचना मिल जाती है। पहाड़ और जंगल में लगी आग बुझाने के लिए कोई कारगर इंतजाम नहीं हैं। सूखे पेड़-पौधे जलने के बाद आग बुझ गई। आग लगने के कारणों का पता नहीं चलता।
आग लगने की यह वजह

  • {शरारती तत्वों द्वारा
  • {महुआ बीनने के लिए ग्रामीणों द्वारा
  • {गर्मी में बांस के आपस में रगड़ से

रायपुर से मिलती है आग लगने की सूचना तो पहुंचती है वन विभाग की टीम
जिले में कहीं भी आग लगने पर इसकी सूचना एफआईआरएमएस (फायर इंफार्मेशन फॉर रिसोर्स मैनेजमेंट सिस्टम) के जरिए वनमंडलों को मिलती है। रायपुर से जगह की लोकेशन वाट्सअप पर मिलने के बाद वनमंडल की टीम मौके पर पहुंचती है। यदि वनपरिक्षेत्र हुआ तो आग टीम के लोग बुझाएंगे और दूसरी वजह हुई तो सूचना विभाग को दे दी जाती है।

रायगढ़ रेंज में 26 फायर वॉचर्स हैं पर न रोकते है और ना ही बुझा पाते हैं
वनविभाग की टीम हर साल 15 फरवरी से 15 जून के बीच आग बुझाने के लिए अग्नि प्रहरी (फायर वॉचर्स) की भर्ती करती है। इस वर्ष भी अकेले रायगढ़ वनपरिक्षेत्र में 26 प्रहरियों की भर्ती की गई है। जंगल की आग बुझाने की जिम्मेदारी इन पर होती है। वनविभाग के पास आग बुझाने के लिए अलग इंतजाम नहीं है। वे पेड़-पौधों की टहनियां लेकर बस आग के एक सिरे को काटने की कोशिश करती है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कहीं इन्वेस्टमेंट करने के लिए समय उत्तम है, लेकिन किसी अनुभवी व्यक्ति का मार्गदर्शन अवश्य लें। धार्मिक तथा आध्यात्मिक गतिविधियों में भी आपका विशेष योगदान रहेगा। किसी नजदीकी संबंधी द्वारा शुभ ...

    और पढ़ें