पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्लास्टिक मुक्त अभियान:प्लास्टिक कचरे की रिसाइक्लिंग नहीं, रामपुर में हो रही है डंपिंग

रायगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शहर के घरों से निकल रहे कचरे में प्लास्टिक ज्यादा। - Dainik Bhaskar
शहर के घरों से निकल रहे कचरे में प्लास्टिक ज्यादा।
  • नगर निगम फिर शुरू करेगा प्लास्टिक मुक्त शहर अभियान

नगर निगम प्लास्टिक मुक्त अभियान की तैयारी कर रहा है। वहीं हर रोज बड़ी मात्रा में प्लास्टिक शहर के एसएलआरएम सेंटर और रामपुर पहाड़ी में डंप किया जा रहा है। प्लास्टिक वेस्ट मैनेजमेंट के लिए निगम की सारी प्लानिंग अधर में अटकी हुई है। ऐसे में हर रोज वार्डों और सड़क किनारे प्लास्टिक का पहाड़ बनता जा रहा है। जो कि भविष्य के लिए खतरनाक है।

हर दिन घरों से निकलने वाले और दुकानों से जमा किए जा रहे प्लास्टिक वेस्ट का मैनेजमेंट प्लान पूरी तरह से फेल हो चुका है। रंगीन प्लास्टिक कोई खरीदने के लिए तैयार नहीं है। प्लास्टिक पहले एसएलआरएम सेंटर में जमा होते हैं। इसके बाद इसी कचरे को उठाकर निगम की गाड़ियों में रामपुर पहाड़ियों में डंप कर दिया जाता है। वार्डों में भी ऐसी ही स्थिति है। शहर में जगह-जगह कचरों में प्लास्टिक का ढेर पड़ा हुआ है। निगम के अनुसार प्लास्टिक के उपयोग कम करने के लिए अभियान चलाने की जरूरत है।

हकीकत यह है कि निगम के पास प्लास्टिक का उपयोग बंद करने या प्लास्टिक वेस्ट मैनेजमेंट को लेकर कोई प्लान नहीं है। कुछ ही महीनों के भीतर रामपुर में सैकड़ों टन प्लास्टिक का ढेर जमा हो चुका है। निगम के साथ कई फर्म भी अपने वेस्ट यहां डंप करने लगे हैं। यहां थोड़ी ही दूर पर एक तरफ बस्ती है और दूसरी तरफ केलो नदी। बारिश में सड़ांध से लोगों को मुश्किल होती है।

जगह नहीं मिली तो रामपुर में डाल रहे हैं कचरा

प्लास्टिक के खरीदार नहीं मिलने की समस्या लगभग साल भर से निगम के सामने बनी हुई है। कुछ दिनों तक निगम एसएलआरएम सेंटरों के आसपास गड्‌ढे खोदकर इन्हें जमीन में दफना रहा था। इसके बाद जब इसकी शिकायतें शुरू हुई तो अब प्लास्टिक को कचरे के ढेर में फेंका जा रहा है। शहर के सभी एसएलआरएम सेंटर में यही स्थिति है।

निगम के पॉलीथिन मुक्त अभियान का असर नहीं

निगम हर साल प्लास्टिक मुक्त भारत के तहत अभियान चलाता है। अभियान के दौरान छोटे-बड़े दुकानदारों पर कार्रवाई कर प्लास्टिक के उपयोग पर पाबंदी लगाई जाती है। कुछ समय बाद मार्केट में दोबारा प्लास्टिक का उपयोग बढ़ जाता है। लेकिन आज तक शत-प्रतिशत प्लास्टिक मुक्त करने में निगम को सफलता नहीं मिली है।

प्लास्टिक के दाने बनाने की मशीन का प्रस्ताव

वेस्ट प्लास्टिक को मशीन में डालकर उससे दाने बनाने का प्रस्ताव निगम कलेक्टर के पास भेज चुकी है। यह प्रस्ताव पूर्व आयुक्त ने भेजा था। इस मसले पर भी कुछ करने की जरूरत है। लेकिन अभी तक कुछ हो नहीं पाया है। इसे लेकर महापौर और आयुक्त इसी फाइल को आगे बढ़ाने की बात कह रहे हैं। ताकि इससे एसएलआरएम सेंटर से जुड़ी महिलाओं को आर्थिक लाभ मिल सके।

खबरें और भी हैं...