शहर में कचरा:अफसर-पार्षद मनाते रहे पर नहीं माने कर्मी, ठेकेदार को नोटिस

रायगढ़15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

गुरुवार को गणतंत्र दिवस और सरस्वती पूजा है। शहर के चौराहों, मोहल्लों में सामूहिक कार्यक्रम होंगे। इधर राष्ट्रीय त्योहार से पहले अपनी मांगों को लेकर नगर निगम के सफाई कर्मियों ने हड़ताल शुरू कर दी है। बुधवार को हड़ताल का असर दिखा। शहर में सफाई व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई है। शहर के चौक-चौराहों, गार्बेज प्वाइंट में ज्यादातर जगहों से कचरा नहीं उठा। अफसरों के साथ ही पार्षदों ने कर्मचारियों को समझाया, लेकिन कर्मचारी मांग पूरी होने पर ही काम पर लौटने की बात कह रहे हैं।

बुधवार शाम को सफाई कामगार का प्रतिनिधिमंडल आयुक्त से मिला। उनकी मांगों को मांगने के लिए एक पत्र भी सौंपा। आयुक्त ने उनकी मांग अव्यावहारिक बताई। ऐसे में सफाई कर्मचारियों ने हड़ताल जारी रखने की बात कही है। इधर नगर निगम के अफसर सफाई ठेकेदार को नोटिस भेजा है।

यदि वह काम नहीं लौटते हैं तो आगे भी नोटिस और फिर टर्मिनेट करने की तैयारी की जा रही है। करीब 360 कर्मचारी हड़ताल पर रहेंगे। 62 कर्मचारी ही नियमित हैं। नियमित कर्मचारी काम कर रहे हैं, उन्हीं के भरोसे काम होगा। नगर निगम के अफसरों ने भी कह दिया है कि सफाई कर्मचारी हड़ताल से वापस नहीं आते हैं, तो सफाई कर्मचारियों का ठेका टर्मिनेट किया जा सकता है। नया टेंडर जारी करने की तैयारी की गई है।

व्यवस्था बिगड़ी, सफाई कर्मचारियों को मनाते रहे पार्षद
कर्मचारियों की हड़ताल से बुधवार को सफाई व्यवस्था बिगड़ गई है। शहर के बुजी भवन चौक के पास, ढिमरापुर रोड, केवड़ाबाड़ी बस स्टैंड रोड, चांदनी चौक जैसे कई जगहों में कचरा तक नहीं उठाया गया। देर शाम तक गंदगी फैली रही। इधर पार्षद भी सफाई कर्मचारियों को काम करने के लिए मनाते-बुझाते रहे, लेकिन वे नहीं माने।

36 कर्मियों को अतिरिक्त रखने की मांग अड़े
36 अतिरिक्त कर्मियों को रखने की मांग पर कर्मी अड़े हुए हैं। अध्यक्ष राजेन्द्र कन्सारी ने बताया कि पहले की व्यवस्था के तहत पहले 36 कर्मचारी अतिरिक्त हुआ करते थे। सफाई कामगार नहीं आते हैं, तो इन लोगों से काम कराया जाता है। प्रावधान है कि यदि अतिरिक्त कामगार रखा जाता है, तो उसका मानदेय या भुगतान अफसरों के वेतन से काटकर दिया जाएगा। कर्मचारी अपना वेतन बढ़वाना चाहते हैं और साथ ही नियमितीकरण की मांग कर रहे हैं। दोनों ही मसले पर राज्य स्तर से ही फैसला संभव है। ऐसे में सफाई कामगारों की मांग अव्यवहारिक बताई जा रही है।

ठेकेदार को नोटिस दिया है, जल्द कार्रवाई करेंगे
"सफाई कर्मियों की जो मांगें हैं, वह शासन स्तर की है। हमने उनकी मांगों से शासन को अवगत करा दिया है। सफाई कर्मचारी काम पर लौटें, इसके लिए ठेकेदार को नोटिस दिया है। यदि कर्मी काम पर नहीं लौटे तो कार्रवाई की जाएगी।" - संबित मिश्रा, आयुक्त, नगर निगम

खबरें और भी हैं...