पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पीएम केयर फंड से कराया जा रहा निर्माण:सिलेंडर के बदले पीएसए प्लांट से मिलेगी 3 अस्पतालों में ऑक्सीजन

रायगढ़20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जिला चिकत्सालय में लगा पीएसए प्लांट। - Dainik Bhaskar
जिला चिकत्सालय में लगा पीएसए प्लांट।
  • केंद्र की एजेंसी ने किया चयन

कोरोना संक्रमण के दौरान ऑक्सीजन की डिमांड बढ़ी, ऑक्सीजन सिलेंडर का उपयोग ज्यादा हुआ। देशभर में हुई दिक्कत के कारण पीएम केयर फंड से केंद्र सरकार ने कई राज्यों में पीएसए दिया है। जिले के तीन अस्पतालों को पीएसए मिले हैं। इसी महीने से ऑक्सीजन सिलेंडर हटाकर उनकी जगह प्लांट लगाए जाएंगे।

केन्द्र सरकार ने केजीएच हॉस्पिटल, एमसीएच और चपले हॉस्पिटल में ऑक्सीजन प्लांट को मंजूरी दी थी। अब तीन जगहों में प्लांट स्थापित कर लिया गया है। स्वास्थ्य अमले ने 20 सितंबर तक इन ऑक्सीजन प्लांट लगाने की तैयारी शुरू की है। तीनों हॉस्पिटलों में ऑक्सीजन की सप्लाई होगी। इसमें पीसीए प्लांट पीएम केयर फंड से डीआरडीओ (डिफेंस रिसर्च एंड डेवपलमेंट ओरगनाईजेशन) पीएसए प्लांट्स उपलब्ध करा रहा है जबकि हाइट्स इसे इंस्टाल करेगी। इधर 100 बेड का एमसीएच हॉस्पिटल भी बनकर तैयार हो गया है। तीसरी लहर को देखते हुए यह हॉस्पिटल बड़ों के साथ बच्चों का भी इलाज हो सकेगा। इसी तर्ज पर इसे तैयार किया गया है।

हॉस्पिटल में ऑक्सीजन सप्लाई पीएसए से
स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि इसी हफ्ते केजीएच में यह प्लांट स्टॉल हो जाएगा इसके बाद इसकी सप्लाई शुरू कर दी जाएगी। एमसीएच और चपले में भी प्लांट आ चुका है। 20 सितंबर तक इसे इंस्टॉल किया जाएगा। हॉस्पिटल में मुख्य तौर पर पीएसए प्लांट से ऑक्सीजन सप्लाई होगी उसी तरह विकल्प तौर पर ऑक्सीजन गैस को भी रखा जाएगा जिसमें वहां से भी सप्लाई हो सके।

आईटीआई कर चुके युवकों को दी ट्रेनिंग
ऑक्सीजन प्लांटों को चलाने के लिए आईटीआई से भी बेरोजगार युवकों को लिया जाएगा। युवाओं को ट्रेनिंग देने के साथ उन्हें नौकरी में रखा जाएगा इसे स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों भी चलाएंगे। इसे चलाने के लिए पहले चरण में उनकी ट्रेनिंग भी हो चुकी है। डीपीएम डॉ योगेश पटेल ने बताया कि इसी माह से अभी सभी हॉस्पिटलों में मरीजों को ऑक्सीजन सप्लाई काम शुरू कर दिया जाएगा। एक प्लांट की कीमत 14.5 लाख रुपए बताई गई है। प्लांट को स्थापित करने के पहले स्ट्रक्चर डेवलप किया गया है। केजीएच हॉस्पिटल 130 बेड, एमसीएच हॉस्पिटल के 100 बेड पर इसी प्लांट के जरिए ऑक्सीजन सप्लाई होगी। अब ऑक्सीजन की कमी से जान नहीं जाएगी, हालांकि उद्योगों से प्रचुर मात्रा में ऑक्सीजन सिलेंडर मिले थे, जिले में ऑक्सीजन की नहीं बल्कि फ्लोमीटर और दूसरे उपकरणों की कमी से परेशानी हुई थी। चपले हॉस्पिटल में 40 बेड में इसकी सुविधा होगी। केंद्र सरकार ने हर जिला अस्पताल में यह प्लांट लगाना अनिवार्य किया है।

खबरें और भी हैं...