14 करोड़ वसूलने घर-घर जाएंगे निगम के कर्मचारी:अभी निगम के पास 1 करोड़ रुपए, कर्मचारियों का वेतन बंटना ही मुश्किल, टैक्स वसूली पर ध्यान

रायगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शहर के विकास कार्यों के अलावा कई तरह के काम कराने के लिए नगर निगम के पास फंड नहीं है। राज्य सरकार से भी बजट नहीं मिल पा रहा है। ऐसे में अब निगम नल कर, जल कर के अलावा संपत्ति कर जैसी टैक्स वसूली पर ज्यादा ध्यान दे रहा है। निगम को 24 करोड़ रुपए की वसूली करना है।

अप्रैल से नवंबर तक करीब 10 करोड रुपए निगम को मिल चुके हैं लेकिन अब निगम के खाते में सिर्फ एक करोड़ रुपए हैं, इससे निगम कर्मचारियों की सैलरी के अलावा कार्यालय के खर्चे है। इसलिए बकाया करीब 14 करोड़ रुपए की वसूली के लिए अभियान छेड़ा गया है। निगम ने राजस्व वसूली के लिए चार ग्रुप बनाया है, जो लोगों के एक-एक घरों में जाकर टैक्स वसूल रही है, जो तुरंत टैक्स जमा नहीं कर रहे हैं उन्हें हफ्तेभर का समय दिया जा रहा है। अमला के लोगों का कहना है कि हर वार्डों में कैंप भी लगाए गए, लेकिन कैंप में कोई नहीं आया तो अब घर-घर में जाकर वसूली करने के लिए पहुंच रहे हैं।

पूरे शहर में 55 फीसदी घरों का टैक्स बाकी
अफसरों की मानें तो शहर में 34 हजार मकान है, उसमें 55 फीसदी राशि बकाया है। जिसमें करीब 18 हजार 700 घरों से टैक्स वसूलना बचा हुआ है, इसके लिए अभी अभियान छेड़ा गया है, यह अभियान दिसंबर तक चलता रहेगा। बकाए हुई रकम को दिसंबर तक वसूलने का काम हो जाने की उम्मीद है। दुकानों पर भी बकाया है। एसपी कॉम्प्लेक्स और जेल परिसर में 70 दुकानों पर औसतन एक-एक लाख रुपया बाकी है। निगम ने उन्हें 15 दिनों का नोटिस दे कर राशि जमा करने के लिए कहा है। टैक्स जमा नहीं करने पर दुकान वापस ली जा सकती है।

वसूली पर पूरा ध्यान, दिसंबर तक पूरा होगा टारगेट
वार्डों में निगम का राजस्व अमला घर-घर जा कर टैक्स वसूल रहा है, यह अभियान दिसंबर तक चलेगा, करीब 14 करोड़ रुपए राशि वसूली करनी है। उम्मीद हैं कि दिसंबर तक टैक्स टॉरगेट के अनुसार लोगों से ले लिया जा रहा है। लोग टैक्स दे रहे हैं।’’
-सुतीक्षण यादव, उपायुक्त, नगर निगम

खबरें और भी हैं...