पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

गुरुजी नी जाए तुंहर दुआर:वर्चुअल क्लास से जी चुरा रहे, किताबें बांटने से भी लग रहा डर

रायगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एडमिशन करना है लेकिन स्कूल जाने को तैयार नहीं हैं शिक्षक, घर-मोहल्लों में जाकर पढ़ाने से भी कतरा रहे

स्कूलों में एडमिशन शुरू कराने के साथ में ऑनलाइन क्लासेस लेने के भी निर्देश दिए गए हैं लेकिन कई स्कूलों में ताला लटकता मिला। कहीं पाठ्य पुस्तकें रखी मिलीं। पहले चेकपोस्ट पर कोरोना ड्यूटी से खतरा बताकर हटे, फिर मध्याह्न भोजन का अनाज स्टूडेंट्स के घरों तक पहुंचाने से मना किया और अब गुरुजी वर्चुअल क्लास में पढ़ाने भी नहीं आ रहे हैं। शिक्षा विभाग के अफसर कुर्सी के झगड़े में फंसे हैं और कुछ शिक्षक स्कूल लॉकडाउन का आनंद उठा रहे हैं। मंगलवार को दैनिक भास्कर टीम ने शहर के अलग-अलग स्कूलों की पड़ताल की। केवड़ाबाड़ी बस स्टैंड, रामभाटा प्रायमरी स्कूल, कौहाकुंडा, जगतपुर जैसे स्कूलों में पुस्तकें नहीं बंटी और कुछ स्कूलों में ताले लगे हुए थे। सरकार ने इसी हफ्ते से स्कूलों में एडमिशन शुरू करने के निर्देश हैं। लेकिन कोरोना संक्रमण खतरे की वजह से कई स्कूलों में तो शिक्षक स्कूल में नहीं आ रहे हैं। पड़ताल में कुच स्कूलों में एक-दो शिक्षक ही मिले। कौहाकुंडा स्कूल में शिक्षक मुख्यालय छोड़कर चले गए हैं। केवड़ाबाड़ी सरकारी स्कूल में पुस्तकों का वितरण नहीं हो सका है इसके अलावा मिडिल स्कूल में दो शिक्षक मिले। वहां पर एक शिक्षक ही ऑनलाइन क्लासेस ले रहे थे। कई शिक्षक नेतागिरी में ध्यान लगा रहे हैं। शहर और आसपास इलाकों में 19 संकुलों में पुस्तकों को तो भेजी गई है, लेकिन शहर के स्कूलों में शिक्षक पुस्तक बांट नहीं रहे हैं। एमडीएम के अनाज के साथ गणवेश और किताबें घरों में जाकर देने के निर्देश हैं।

लाइव क्लास में पढ़ाने की इच्छा नहीं, अब सैलरी काटेंगे
केबल नेटवर्क में तीन चैनलों को शुरू किया गया था। इसमें मिडिल और हाईस्कूल, हायर सेकंडरी स्कूलों के लिए अलग-अलग टाइमिंग तय की गई थी। लेकिन इसमें 7 शिक्षक नहीं आने की वजह से उन्हें शोकॉज नोटिस जारी किया था, नोटिस जारी होने के बाद भी दो शिक्षक वापस नहीं लौटे। शिक्षक 10 दिनों की ड्यूटी में सिर्फ 5 से 6 दिन ही पढ़ाई होती है बाकी दिनों में छुट्‌टी मनाते हैं। अब डीईओं ने निर्देश दिया हैं कि लापरवाही बरतने वाले शिक्षकों की सैलरी काटी जाएगी।

बच्चों से हो सकता है शिक्षकों को कोरोना
"ग्रामीण के साथ अब शहरी क्षेत्र में भी संक्रमण का खतरा बढ़ रहा है, वर्चुअल क्लासेस में हम पढ़ाई करा रहे हैं। घर-घर जाकर पढ़ाना मुश्किल है, कोई स्टूडेंट कोविड संक्रमित हो तो दिक्कत हो सकती है। प्रायमरी और मिडिल में थोड़ी दिक्कत आ रही है उसमें अभिभावकों को सहयोग करना होगा। हम फोन से संपर्क करके पढ़ाने के पक्ष में हैं। शिक्षक संघ मोहल्ले में जाकर पढ़ाने के पक्ष में नहीं है। कोविड में जिन शिक्षकों की ड्यूटी लगाई है, उनमें रोटेशन की मांग रखी है।''
-नेतराम पटेल, अध्यक्ष, टीचर्स एसोसिएशन

सरकार के निर्देशों का करना होगा पालन
"शिक्षकों को सरकार के नियमों का पालन करना पड़ेगा, अभी पुस्तकों को बांटने के निर्देश दिए गए हैं, उन्हें बांटना है। इसके अलावा जो भी ड्यूटी लगाई जा रही है उसका पालन भी करना पड़ेगा। ऑनलाइन माध्यम से पढ़ाना भी अनिवार्य किया गया है। इसकी मॉनिटरिंग की जा रही है।''
-आरपी आदित्य, डीईओ

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- मेष राशि वालों से अनुरोध है कि आज बाहरी गतिविधियों को स्थगित करके घर पर ही अपनी वित्तीय योजनाओं संबंधी कार्यों पर ध्यान केंद्रित रखें। आपके कार्य संपन्न होंगे। घर में भी एक खुशनुमा माहौल बना ...

और पढ़ें