नौकरी देने का मामला:दस्तावेज में कमी फिर भी 52 का हुआ चयन, शिकायत के बाद रुकवाई भर्ती, सहायक कलेक्टर की टीम कर रही जांच

रायगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

एनटीपीसी में भू-विस्थापितों की भर्ती में गड़बड़ी की शिकायत मिलने पर कंपनी में उनकी ज्वाइनिंग रोक दी गई है। मामले में कलेक्टर की टीम ने जांच पूरी कर ली है। पूरे मामले पर फैसला कलेक्टर लेंगे। कलेक्टर भीम सिंह ने सहायक कलेक्टर प्रतीक जैन की अध्यक्षता में जांच कमेटी का गठन किया। गड़बड़ी की जांच में कुछ के दस्तावेज फर्जी मिले तो कुछ अभ्यर्थियों के पास डाक्युमेंट हीं नहीं मिले। जांच रिपोर्ट कलेक्टर को सौंप दी गई है।

वे मामले में अंतिम निर्णय लेंगे। एनटीपीसी में भू विस्थापित की भर्ती के लिए अभी भी 21 पद खाली है। इसके पहले असिस्टेंट जनरल, टेक्नीशियन सहित कई पदों के लिए वैकेंसी निकाली थी। जांच कमेटी के सदस्यों कहना हैं कि भू विस्थापितों की जो भी आपत्तियां थी, उसे एनटीपीसी अफसरों के सामने निराकरण कराया गया। भू विस्थापितों के लिए एनटीपीसी ने 79 पदों में निकाली थी, जिसमें पहले चरण में 6 की भर्ती हुई थी।

इसके बाद फिर 73 पदों में भर्ती के लिए विज्ञापन निकाला था, जिसमें स्किल टेस्ट (परीक्षा) लेने के बाद सेकंड राउंड में 52 लोगों का सलेक्शन हुआ है। अधिकारियों के अनुसार यह भर्ती प्रक्रिया में अभी कई पेंच हैं। भू विस्थापितों ने इसकी शिकायत एनटीपीसी के विजलेंस के अलावा जिला प्रशासन के पास भी की थी। इसलिए अभी किसी को ज्वाइनिंग नहीं दी है।

प्रशासन के अलावा एनटीपीसी प्रबंधन और विजलेंस टीम भी अपने स्तर पर जांच कर रही है। सहायक कलेक्टर प्रतीक जैन ने बताया कि एनटीपीसी मामले में जांच पूरी हो गई है। इस मामले सारे तथ्यों को सुना है, अब यह मामला विचाराधीन है।

खबरें और भी हैं...