उपभोक्ता फोरम में लगातार पहुंच रही हैं शिकायतें:निवेशित राशि 2 साल बाद भी नहीं दी सहारा इंडिया को देने होंगे 46 हजार

रायगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

उपभोक्ता फोरम ने एक उपभोक्ता के परिवाद पर सुनवाई करते हुए सेवा में कमी का दोषी पाकर सहारा इंडिया लिमिटेड पर 46 हजार 293 रुपए का जुर्माना लगाया है। कंपनी को 45 दिन के भीतर राशि जमा करने के निर्देश दिए हैं।

कृष्णा विहार कॉलोनी की निवासी कंचन अग्रवाल ने सहारा इंडिया लिमिटेड से 7150 रुपए की दो किस्त जुलाई 2018 में गोल्डन 24 स्कीम के तहत जमा कराई थी। यह राशि जुलाई 2020 में मेच्योर हुई थी। उपभोक्ता के वकील केडी पाण्डेय ने बताया कि कंपनी द्वारा पीड़ित को दो स्कीम में 43 हजार 293 रुपए जमा कराए थे। निवेश मेच्योर होने पर जब कंचन ने अपनी राशि मांगी तो सहारा इंडिया के अफसरों ने राशि न देकर उनपर फिक्स डिपोजिट करने का दबाव बनाया। 12 हजार से अधिक राशि जमा करने की बात कही गई थी। पीड़ित ने सेवा में कमी की बात के तहत उपभोक्ता फोरम में केस दर्ज किया था।

फोरम की अध्यक्ष तजेश्वरी देवी देवांगन और सदस्य विदुला तामस्कर और शिशिर वर्मा ने 25 नवंबर को आदेश सुनाते हुए इस मामले में सहारा इंडिया लिमिटेड को सेवा में कमी का दोषी मानते हुए निवेश का मेच्योरिटी क्लेम 43 हजार 293 रुपए और 2 हजार रुपए मानसिक क्षतिपूर्ति और 1 हजार रुपए कानूनी व्यय देने का आदेश सुनाया है। यह सारी राशि 45 दिनों के भीतर देने के लिए कहा है। एक ओर चिटफंड कंपनियों में फंसे रुपयों की वसूली के लिए सरकार के निर्देश पर जिलों में कार्रवाई चल रही है वहीं सहारा इंडिया कंपनी के निवेशक प्रदेशभर में आंदोलन कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...