परेशानी / साॅफ्टवेयर अपडेट नहीं होने से बस संचालकों को छूट का लाभ नहीं

Bus operators do not have the benefit of exemption due to software updates
X
Bus operators do not have the benefit of exemption due to software updates

  • बसों के टैक्स एवं इंश्योरेंस की अवधि बढ़ाने की मांग की यूनियन ने

दैनिक भास्कर

May 30, 2020, 05:00 AM IST

पत्थलगांव. कोरोना संक्रमण के कारण पिछले दो माह से लाॅकडाउन लगाया है। इस बीच बहुत से व्यवसाय बंदी की मार झेल रहे है। सरकार की ओर से पहले लाॅकडाउन के बाद लगातार चौथे लाॅकडाउन तक अधिकांश व्यवसायों को खोलने की राहत दी थी, परंतु लगातार दो माह से बसों का संचालन पूरी तरह ठप है। पिछले दो माह से बसों के पहिए थमे रहने से अब इस व्यवसाय से जुड़े कर्मचारी एवं संचालक आर्थिक मार झेल रहे है। पिछले दिनों बस यूनियन संघ की ओर से सरकार के समक्ष कुछ मांगें रखी थी, जिसमें उन्होंने बसों का टैक्स एवं इंश्योरेंस की अवधि आगे बढ़ाने की मांग की थी। बस संचालकों की मांग पर सरकार ने उनका दो माह का टैक्स माफ कर दिया,परंतु बस संचालक इस रियायत से खुश नहीं है। उनका कहना है कि दो माह से बसों के चक्के थमे हुए हैं। 
इस दौरान का टैक्स माफ करने के अलावा सरकार को आने वाले अन्य चार माह का भी टैक्स माफ करना चाहिए। बस संचालक गुरुशरण सिंह भाटिया ने बताया कि कोरोना संक्रमण के कारण बसों को 50 फीसदी सवारी में चलाने की छूट दी जा रही है,परंतु संकट के इस दौर में संचालक किसी भी हाल मे पचास फीसदी सवारी के साथ बस का संचालन नहीं कर सकते। उनका कहना था कि अन्य व्यवसाय के तरह ही इस व्यवसाय को भी सरकार विशेष छूट के साथ संचालन करने की अनुमति देनी चाहिए। 
फिटनेस सहित दस्तावेजों का नवीनीकरण भी नहीं
बस संचालकों को दो महीने का टैक्स सरकार ने माफ किया है, परंतु जिला परिवहन कार्यालय मे साॅफ्टवेयर अपडेट नहीं हाेने के कारण अब भी बस संचालको का टैक्स बकाया दिखा रहा है,जिसके कारण बस संचालकों को आगे का टैक्स जमा करने मे कठिनाई हो रही है। श्री भाटिया ने बताया कि साॅफ्टवेयर अपडेट नहीं रहने के कारण बस संचालकों को आगे का टैक्स के अलावा फिटनेस एवं अन्य दस्तावेजो को नवीनीकरण कराने मे परेशानी हो रही है। जशपुर के परिवहन अधिकारी केएल.माहौर ने बताया कि साॅफ्टवेयर अपडेट रायपुर से किया जाएगा। उसके अलावा आगे का टैक्स जमा किया जा सकता है। साफ्टवेयर अपडेट होने के बाद टैक्स आगामी महिना मे समायोजित कर क्लीयर हो जाएगा।

व्यवसाय से जुड़े लोगों के सामने रोजी -रोटी की समस्या
बस संचालक गुरुशरण सिंह भाटिया ने बताया कि लंबे समय से बसों का संचालन बंद होने से व्यवसाय से जुड़े लाखों लोगों के सामने रोजी रोटी की समस्या खड़ी हो गई है। उनका कहना था कि सरकार इस व्यवसाय के प्रति एकदम से मुंह मोड़ रखी है। उन्होंने जल्द ही बस संचालकों के लिए सरकार की ओर से नई गाइड लाइन जारी करने की अपील की है। उनका कहना था कि जल्द ही बसों के परिचालन के लिए निश्चित योजना नहीं बनाई गयी तो इस संचालन से जुडे़ लोगों के सामने पेट भरने की गंभीर समस्या खड़ी हो सकती है। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना