खुद उठाया बीड़ा / जुटाई लकड़ी, बना रहे पुल क्योंकि नेताओं ने नहीं सुनी

Raised wood, making bridges because leaders did not listen
X
Raised wood, making bridges because leaders did not listen

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

बड़गांव. ग्राम पंचायत छिंदपाल के आश्रित ग्राम सनटोला तक जाने वाले मार्ग में बड़े नाले पर पुलिया बनाने की मांग ग्रामीण वर्षों से कर रहे हैं, लेकिन सरकार अब तक पूरी नहीं कर पाई। अब थक हारकर ग्रामीण स्वयं एकजुट होकर नाले में लकड़ी की पुलिया बनाने में जुट गए हैं। सनटोला 300 आबादी वाला गांव है। वहीं पूर्व विधायक भोजराज नाग के ग्राम छिंदपाल का आश्रित ग्राम है, लेकिन अब तक इस गांव में न कोई विधायक पहुंचा है न सांसद। 
बड़े नाले पर पुलिया नहीं बनने से ग्रामीणों का बारिश में आना-जाना बंद हो जाता है। वहीं परेशानी के चलते इस गांव के कई बच्चे 5वीं के बाद बढ़ा छोड़ चुके हैं। ग्राम पंचायत छिंदपाल के पंचायत प्रतिनिधि घनश्याम खुड़श्याम, सनटोला के पटेल बेनु राम, अजय यादव, चुक्की यादव, तीजू राम आंचला, बिजुराम, आरजू राम आंचला, आयतु राम गावड़े, सियाराम नेताम ने कहा भाजपा सरकार में विधायक और बस्तर विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष रहे भोजराज नाग से सनटोला मार्ग पर पुलिया बनाने की मांग 5 साल से करते रहे, लेकिन आश्वासन ही मिला। विधायक अनूप नाग को इस समस्या से कई बार अवगत कराए, लेकिन अब तक आश्वासन ही मिला है। जनदर्शन में भी आवेदन दे चुके हैं।
जल्द स्वीकृति दिलाई जाएगी: विधायक नाग
अंतागढ़ विधायक अनूप नाग ने कहा हमारी सरकार और हम स्वयं इस मामले में गंभीर हैं। हमारी सरकार की मंशा है कि ग्रामीणों की मूलभूत सुविधाओं का ख्याल रखा जाए। सनटोला के ग्रामीणों की मांग जायज है। जल्द ही इस पुलिया का प्राक्कलन बनवाकर स्वीकृति दिलाई जाएगी, ताकि बच्चों का भविष्य बर्बाद न हो।
5वीं के बाद छोड़ दी पढ़ाई
सनटोला के देवेंद्र ध्रुव 5वीं, जयलाल कालो 6वीं, राजेश ध्रुव 8वीं और शिवचरण नेताम ने 8वीं तक पढ़ाई कर स्कूल जाना छोड़ दिया। बच्चों ने कहा पढ़ाई करने उन्हें नाला पारकर छिंदपाल मिडिल स्कूल जाना पड़ता था। नाले में पुलिया नहीं होने से परेशानी होती थी, जिसके चलते बीच में ही पढ़ाई छोड़ दिए। ऐसे और कई बच्चे हैं, जो नाला के चलते अपनी पढ़ाई अधूरा छोड़ दिए।   

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना